अपने डेब्यू टेस्ट में शतक और फिर अर्धशतक जड़ने वाले युवा बल्लेबाज श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) के खेल की तारीफ हर जुबान पर है. न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर टेस्ट में अय्यर को तब मौका मिला था, जब भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) पहले टेस्ट में आराम पर थे. लेकिन मुंबई में होने वाले दूसरे टेस्ट में कोहली वापसी करेंगे. पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने कहा कि कोहली तो वापसी करेंगे लेकिन इस शानदार परफॉर्मेंस के बाद आप अय्यर को प्लेइंग XI से दरकिनार नहीं कर सकते.Also Read - RCB खिलाड़ी को पुलिस ने पीटा! आंख की रोशनी जाते-जाते बची

क्रिकेट के बाद कॉमेंटेटर बने आकाश चोपड़ा ने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट में भारतीय टीम में एक या दो परिवर्तन देखने को तो जरूर मिलेंगे. लेकिन ऐसा नहीं होगा कि आप श्रेयस अय्यर को अब टीम से बाहर देखेंगे. Also Read - कप्तान रोहित शर्मा के नेतृत्व में अच्छे हाथों में है भारतीय क्रिकेट: डैरेन सैमी

आकाश चोपड़ा ने यह बात रविवार को मैच के चौथे दिन चायकाल के ब्रेक के दौरान स्टार स्पोट्स चैनल पर कही. कानपुर टेस्ट में अय्यर ने अपने टेस्ट जीवन की पहली ही पारी में लाजवाब शतक जमाया था. इसके बाद अपनी दूसरी पारी में उन्होंने तब हाफ सेंचुरी जमाकर भारत को संभाला, जब न्यूजीलैंड के पास मैच में दबदबा बनाने का मौका दिख रहा था. Also Read - IPL 2022: RCB के लिए खेलना चाहते हैं Baby ABD डेवाल्ड ब्रेविस, ऑक्शन के लिए नाम दर्ज कराया

चोपड़ा ने कहा, ‘अगर दूसरी पारी में अय्यर भी आउट हो जाते तो यह मैच न्यूजीलैंड की ओर झुक जाता. लेकिन उन्होंने 65 रन की पारी खेलकर भारत के दबदबे को मैच में बनाए रखा.’

इस पूर्व टेस्ट क्रिकेटर ने कहा, ‘उन्होंने बेहतरीन अंदाज में बॉलरों को सम्मान के साथ खेलते हुए न्यूजीलैंड के बॉलिंग अटैक पर अपना कब्जा जमाया.

44 वर्षीय चोपड़ा ने कहा, ‘डेब्यू टेस्ट मैच में शतक और अर्धशतक जड़ने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी श्रेयस अय्यर की पहली पारी शानदार थी क्योंकि तब वह नर्वस होंगे लेकिन तब बैटिंग के लिए पिच थोड़ी सी आसान थी. इससे पहले किसी ने नहीं देखा था कि क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में वह क्या क्वॉलिटी लेकर आए हैं. लेकिन मेरे विचार में उनकी दूसरी पारी, बेहद चुनौतीपूर्ण थी और इसलिए ही वह बहुत संतोष देती है.’

उन्होंने कहा, ‘जब टीम अत्याधिक दबाव में थी, तब उनकी 65 रन की पारी ने भारत की स्थिति मजबूत बनाने का काम किया.’