मैनचेस्टरः न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले में खराब शॉट खेलने को लेकर युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत की आलोचना हो रही है. लेकिन टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कई पूर्व क्रिकेटरों ने उनका बचाव किया है. कोहली ने इस युवा बल्लेबाज का बचाव करते हुए कहा, ‘वह अभी युवा है. मैं भी जब छोटा था तब मैंने काफी गलतियां की. वह भी सीख जाएगा. वह बाद में सोचेगा कि उस समय मैंने यह गलती की थी. उसे अभी से समझ आ रहा है.’ उन्होंने पंत और हार्दिक पंड्या के बीच हुई छोटी सी साझेदारी की भी तारीफ की.

उन्होंने कहा, ‘पंत ने हार्दिक के साथ साझेदारी की शुरूआत की. तीन बल्कि चार विकेट गिरने के बाद वे जिस तरह से खेले, वह शानदार था. वह इससे मजबूती से निखरकर आयेगा.’ पंत के आउट होने के बाद कैमरों ने कोहली को कोच रवि शास्त्री से इशारों में बात करते हुए कैद कर लिया था. कोहली ने कहा कि गलती करने के बाद सबसे ज्यादा पछतावा खिलाड़ी को ही होता है.

उन्होंने कहा, ‘देश के लिये खेलना सभी के लिये गर्व की बात है और गलती करने पर सबसे ज्यादा निराश भी खिलाड़ी ही होते हैं. बाहर से यह गलती दिखती है लेकिन मैदान के भीतर जो खिलाड़ी इसे करता है, उसे सबसे ज्यादा नुकसान होता है.’ उन्होंने कहा, ‘पंत के पास प्रतिभा है. वह ही नहीं, दूसरों (हार्दिक पंड्या) ने भी खराब शॉट खेला. खेल में यह होता है. आप गलतियां करते हैं और कई बार गलत फैसले लेते हैं. इसे स्वीकार करना पड़ता है.’ कोहली ने रविंद्र जडेजा की तारीफ की जिसने क्षेत्ररक्षण में मुस्तैदी दिखाने के बाद शेर की तरह बल्लेबाजी भी की. उन्होंने संजय मांजरेकर के ‘टुकड़ों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले क्रिकेटर’ वाले बयान का परोक्ष हवाला देते हुए कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि पिछले हफ्ते जो कुछ हुआ, उसके बाद जडेजा को कुछ कहने की जरूरत थी. वह मैदान में उतरकर प्रदर्शन करने को बेताब था.’

उधर, इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ऋषभ पंत की गैरजिम्मेदराना बल्लेबाजी से नाखुश नजर आए. वहीं पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने भारतीय खिलाड़ी का बचाव किया. पंत नंबर-4 पर बल्लेबाजी करने आए लेकिन 56 गेंदों पर केवल 32 रन ही बना सके. वह अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन स्पिन गेंदबाज मिशेल सेंटनर की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में आउट हो गए.

पीटरसन ने ट़्वीट किया, “कितनी बार हमने पंत को यह करते हुए देखा है????!!! इसी कारण उन्हें शुरुआत में टीम में शामिल नहीं किया गया था.. दुखद.” इस पर भारत के पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह ने पंत का बचाव किया. सिंह ने कहा, “उन्होंने केवल आठ वनडे मैच खेले हैं. यह उनकी गलती नहीं है वह सीखेंगे और बेहतर होंगे, यह दुख की बात नहीं है. हालांकि, हमें अपने विचार साझा करने का अधिकार है.”