India vs New Zealand, 1st ODI: युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) और मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ बुधवार को हैमिल्टन के सेडन पार्क में वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया. इस मैच में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया.Also Read - नॉकआउट राउंड के लिए मुंबई रणजी ट्रॉफी टीम में शामिल नहीं हुए अर्जुन तेंदुलकर

कड़क लड़का राहुल- नाम तो सुना ही होगा, श्रेयस अय्यर… ये तुम्हारा साल है: वीरेंद्र सहवाग Also Read - पहले ही सीजन Tilak Varma ने रचा इतिहास, रिषभ पंत को पछाड़कर बने नंबर-1

मयंक और पृथ्वी ने भारत की ओर से पारी की शुरुआत की. कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने विकेटकीपर बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) पर मिडिल ऑर्डर में भरोसा जताया. मयंक और पृथ्वी ने क्रीज पर कदम रखते ही अपने नाम एक खास रिकॉर्ड दर्ज कर लिए. Also Read - रिषभ पंत-पृथ्वी शॉ के टीम इंडिया में रहते विपक्षी टीम के लिए 400 रन बनाना भी काफी नहीं होगा: सहवाग

अपने टेस्ट डेब्यू में शतक जड़ने वाले शॉ और मयंक भारत की चौथी सलामी जोड़ी बन गई है जिसने किसी एक वनडे में एकसाथ डेब्यू करते हुए ओपनिंग की भूमिका निभाई. इससे पहले आखिरी बार वर्ष 2016 में केएल राहुल और करुण नायर (Karun Nair) ने जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे में डेब्यू करते हुए सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभाई थी.

साल 1974 में लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) और सुधीर नाइक (Sudhir Naik) भी इंग्लैंड के खिलाफ ये उपलब्धि हासिल कर चुके हैं जबकि पार्थसारथी शर्मा और दिलीप वेंगसरकर (Dilip Vengsarkar) ने 1976 में न्यूजीलैंड के खिलाफ डेब्यू वनडे में एकसाथ बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरे थे.

अर्धशतकीय साझेदारी की पृथ्वी और मयंक ने

20 वर्षीय पृथ्वी और 28 साल के मयंक ने अर्धशतकीय साझेदारी कर भारत को अच्छी शुरुआत दिलाई. दोनों अच्छी लय में दिख रहे थे लेकिन कॉलिन डी ग्रैंडहोम ने पृथ्वी को विकेटकीपर टॉम लैथम के हाथों कैच कराकर भारत को तगड़ा झटका दिया. पृथ्वी ने 21 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 20 रन बनाए.

श्रेयस अय्यर के पहले वनडे शतक, विराट-राहुल की अहम पारियों से NZ के सामने 348 रन का लक्ष्‍य

पृथ्वी के आउट होने के बाद मयंक भी अगले ओवर में टिम साउदी की गेंद पर टॉम ब्लंडेल को कैच थमाकर पवेलियन लौट गए. मयंक ने 31 गेंदों पर 32 रन बनाए जिसमें 6 चौके शामिल थे.