नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका को वनडे सीरीज में करारी शिकस्त देने के बाद उत्साह से भरी भारतीय टीम कल से जोहान्सबर्ग में शुरू होने वाली तीन टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज में भी हार से आहत अपने प्रतिद्वंद्वी पर विजय अभियान जारी रखने के लिये उतरेगी. विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम ने वनडे सीरीज में दक्षिण अफ्रीका को 5-1 से हराकर इतिहास रचा और अब वह अपनी इस लय को क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में भी बरकरार रखने के लिये प्रतिबद्ध होगी. इस सीरीज में सुरेश रैना पर सभी की निगाह टिकी रहेगी जो एक साल बाद राष्ट्रीय टीम में वापसी कर रहे हैं. Also Read - India Tour Of Australia 2020-21: ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए चुनी गई भारतीय टीम में 3 चौंकाने वाले नाम शामिल

Also Read - IND vs AUS: क्‍या ऑस्‍ट्रेलिया में परिवार के साथ जा सकेंगे भारतीय खिलाड़ी, सौरव गांगुली ने दिया जवाब

भारत टी20 सीरीज में जीत के दावेदार के रूप में शुरूआत करेगा. युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की स्पिन जोड़ी फिर से दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों की परीक्षा लेने के लिये तैयार है. भारत की दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर टी20 में अच्छी यादें जुड़ी हैं. उसने अपना पहला टी20 मैच में 2006 में इसी देश में खेला था और इसके एक साल बाद उसने दक्षिण अफ्रीका में ही महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में पहला टी20 विश्व कप जीता था. Also Read - IND vs AUS: सूर्यकुमार यादव को फिर नहीं मिली टीम इंडिया में जगह, फैंस मांग रहे न्याय

कोहली की किस्मत चमकाने वाली ‘कलाई’ को वीरू ने दिया नया नाम, ये ‘ChaKu’ मुझे दे दो ठाकुर

भारत ने 2017 चैंपियन्स ट्रॉफी से लेकर अब तक दस टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं जिनमें से सात में उसने जीत दर्ज की जिससे साफ है कि इस प्रारूप में टीम अच्छी फॉर्म में चल रही है. इस टी20 सीरीज के लिये रैना, के.एल राहुल और जयदेव उनादकट को भी टीम से जोड़ा गया है. इन तीनों ने कल सेंचुरियन में छठे वनडे से पहले नेट्स पर दो घंटे तक अभ्यास किया. वांडरर्स में भी आज वैकल्पिक अभ्यास सत्र का आयोजित किया गया.

श्रीलंका के खिलाफ आखिरी टी20 सीरीज में कोहली और भुवनेश्वर कुमार को विश्राम दिया गया था. उनकी अनुपस्थिति में श्रेयस अय्यर, मोहम्मद सिराज और वॉशिंगटन सुंदर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने का मौका मिला. इन तीनों में से केवल अय्यर ही वर्तमान टीम का हिस्सा हैं और यह देखना होगा कि उन्हें कल अंतिम एकादश में जगह मिलती है या नहीं. इस युवा बल्लेबाज ने जोहान्सबर्ग और पोर्ट एलिजाबेथ में दो वनडे खेले जिनमें उन्होंने 18 और 30 रन बनाये. हालांकि अय्यर की जगह रैना को अंतिम एकादश में रखा जा सकता है जिन्हें इस प्रारूप में उपयोगी आलराउंडर माना जाता है.

42 साल पुराने विव रिचर्ड्स के इंटरनेशनल रिकॉर्ड को विराट कोहली से खतरा , T20 सीरीज में रच सकते हैं इतिहास

भारतीय दृष्टिकोण से रैना की वापसी सबसे अधिक महत्वपूर्ण पहलू है. उन्होंने 2015 के बाद वनडे मैच नहीं खेले हैं और वह आखिरी बार एक साल पहले इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में खेले थे. रैना ने तब तीन मैचों में एक अर्धशतक की मदद से 104 रन बनाये थे. रैना को इसके बाद गुजरात लायन्स की तरफ से आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद टीम में नहीं चुना गया. बाद में पता चला कि वह अनिवार्य यो-यो टेस्ट पास नहीं कर पाये थे और इसलिए उनका चयन नहीं किया गया. उन्होंने दिसंबर में यह टेस्ट पास किया तथा सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में उत्तर प्रदेश की तरफ से नौ मैचों में एक शतक और दो अर्धशतक की मदद से 314 रन बनाये.

रैना के अंतिम एकादश में जगह बनाने की पूरी संभावना है लेकिन उनके प्रदर्शन पर करीबी निगाह रहेगी क्योंकि भारत को मार्च में श्रीलंका में भी टी20 त्रिकोणीय सीरीज खेलनी है. रैना यहां अच्छा प्रदर्शन करके अगले साल होने वाले विश्व कप के लिये वनडे टीम में वापसी का रास्ता भी साफ कर सकते हैं क्योंकि भारतीय टीम प्रबंधन अब भी एक ऑलराउंड विकल्प की तलाश में है जो मध्यक्रम विशेषकर नंबर चार बल्लेबाज के रूप में फिट बैठ सके. उनादकट अन्य खिलाड़ी हैं जिन पर नजर रहेगी. अक्तूबर में न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ सीरीज से लेकर अब तक भारत ने छह टी20 मैचों में से चार मैच में बायें हाथ के इस तेज गेंदबाज को रखा है. आशीष नेहरा के संन्यास लेने के बाद और भुवनेश्वर को श्रीलंका के खिलाफ विश्राम देने के बाद उनादकट को मौका मिला.

टीम इंडिया की जीत के बाद कोहली ने अनुष्का को श्रेय देते हुए कही ये खास बात

आईपीएल नीलामी में 11.5 करोड़ रूपये के साथ सबसे अधिक कीमत पर बिकने वाले भारतीय खिलाड़ी बने उनादकट इस प्रारूप में भारत के ट्रंप कार्ड हो सकते हैं. उनादकट, जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर तीनों चयन के लिये उपलब्ध हैं और ऐसे में भारत की पहली पसंद का तेज गेंदबाजी आक्रमण देखना दिलचस्प होगा. छठे वनडे में चार विकेट लेने वाले शार्दुल ठाकुर को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. हार्दिक पांड्या और कलाई के दोनों स्पिनरों का अंतिम एकादश में चयन तय है. जहां तक बल्लेबाजी लाइनअप की बात है तो राहुल अंतिम एकादश में जगह बना पाएंगे इसको लेकर संदेह है. रोहित शर्मा को बाहर नहीं बिठाया जा सकता तथा शिखर धवन ने वनडे सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया.

टीम इस प्रकार हैं –

भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, सुरेश रैना, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, दिनेश कार्तिक, एमएस धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, जयदेव उनादकट, शार्दुल ठाकुर.

दक्षिण अफ्रीका: जेपी डुमिनी (कप्तान), फरहान बेहार्डियन, जूनियर डाला, एबी डीविलियर्स, रीजा हेन्ड्रिक्स, क्रिस्टियन जोनेकर, हेनरिक क्लासेन, डेविड मिलर, क्रिस मॉरिस, डेन पीटरसन, आरोन फांगिसो, एंडेल फेलुकवायो, तबरेज शम्सी, जॉन-जॉन स्मिट्स.