दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में तीसरा शतक लगाकर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने बारिश से प्रभावित रांची टेस्ट के पहले दिन भारत को 224/3 के स्कोर तक पहुंचा दिया है। खराब रोशनी और बारिश की वजह से पहले दिन का खेल 58 ओवरों के बाद रोकना पड़ा। दिन का खेल खत्म होने तक रोहित 117 (164) रन बनाकर नाबाद हैं, और उनका साथ दे रहे उप कप्तान अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) 83 रन पर टिके हैं।

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। जिसके बाद कागिसो रबाडा और एनरिच नॉर्टजे ने 15.3 ओवर में मेजबान टीम का स्कोर तीन विकेट पर 39 रन कर दिया। रोहित (नाबाद 108) और  रहाणे (नाबाद 74) ने इसके बाद चौथे विकेट के लिए 185 रन की अटूट साझेदारी करके भारत को संभाला।

इस सीरीज में अब तक 13 चौके और चार छक्के जड़ने वाले रोहित सुनील गावस्कर के बाद किसी सीरीज में दो से अधिक शतक जड़ने वाले पहले भारतीय सलामी बल्लेबाज बने। गावस्कर ने 1970 में ये उपलब्धि हासिल की थी।

Pro Kabaddi Final 2019: जीते कोई भी मिलेगा नया चैंपियन

रोहित ने डेन पीट पर छक्के के साथ अपना छठा और सीरीज का तीसरा शतक पूरा किया। इस सलामी बल्लेबाज ने सतर्क शुरुआत के बाद आकर्षक शॉट खेले। उन्होंने पहले 23 रन 55 गेंद में बनाने के बाद अगले 75 रन 78 गेंद पर बनाए। रहाणे ने भी रोहित का शानदार साथ निभाते हुए सिर्फ 70 गेंद में 21वां अर्धशतक पूरा किया जो भारत में उनका सबसे तेज अर्धशतक है।

रोहित ने सेनुरान मुथुस्वामी की जगह टीम में जगह बनाने वाले पीट को खास तौर पर निशाना बनाया जिससे इस आफ स्पिनर ने छह ओवर में 43 रन लुटाए। चोटिल केशव महाराज की जगह टीम में शामिल किए गए बाएं हाथ के स्पिनर जार्ज लिंडे ने हालांकि एक छोर से कसी हुई गेंदबाजी की।

रोहित और रहाणे के दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पहले स्पैल में 15 रन देकर दो विकेट चटकाने वाले रबादा दूसरे स्पैल में काफी महंगे साबित हुए और उन्होंने चार ओवर में 30 रन खर्च कर दिए।

जसप्रीत बुमराह की वापसी में देरी, बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज में नहीं लेंगे हिस्सा: रिपोर्ट

रोहित को हालांकि शुरुआत में गेंदबाजों ने परेशान किया। वो सात रन के निजी स्कोर पर एलबीडब्ल्यू के फैसले के खिलाफ डीआरएस लेकर नाबाद रहने में सफल रहे। वो इसके बाद रन आउट से भी बचे जब जुबैर हमजा प्वाइंट से थ्रो पर विकेट गिराने में नाकाम रहे।

भारतीय सलामी बल्लेबाजों को शुरुआत में ही असमान उछाल का सामना करना पड़ा जिसका रबादा और लुंगी एनगिडी ने पूरा फायदा उठाते हुए मेहमान टीम को गेंदबाजी में सीरीज की अब तक की सर्वश्रेष्ठ शुरुआत दिलाई।

तेज गेंदबाज रबाडा ने अपने पहले स्पैल में सात ओवर में चार मेडन फेंकते हुए 15 रन देकर दो विकेट चटकाए। उन्होंने पहले घंटे में ही सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (10) और चेतेश्वर पुजारा (00) को पवेलियन भेजा। रबाडा ने अपने तीसरे ही ओवर में अग्रवाल को आउटस्विंगर पर तीसरी स्लिप में डीन एल्गर के हाथों कैच कराया।

युवराज सिंह ने BCCI की चुटकी ली- काश सौरव गांगुली तब अध्यक्ष होते जब यो-यो टेस्ट चरम पर था

रबाडा ने अपने पांचवें ओवर में पुजारा को पगबाधा किया। मैदानी अंपायर रिचर्ड इलिंगवर्थ ने एलबीडब्ल्यू की उनकी अपील ठुकरा दी थी लेकिन डीआरएस का सहारा लेने पर फैसला दक्षिण अफ्रीका के पक्ष में गया।

नॉर्टजे ने इसके बाद कोहली को पगबाधा करके अपने करियर का पहला टेस्ट विकेट हासिल किया। कोहली ने अंपायर के फैसले के खिलाफ डीआरएस का सहारा लिया लेकिन ‘अंपायर कॉल’ आने के कारण उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। दूसरे टेस्ट में नाबाद दोहरा शतक जड़ने वाले कोहली ने 12 रन बनाए। रोहित और रहाणे ने इसके बाद पारी को संभाला और भारत को मैच में मजबूत पकड़ दिलाई।