जोहान्सबर्ग: विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने बीते वर्षो में कई ऐसे रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं जिन्हें अतीत में कोई भी भारतीय टीम हासिल नहीं कर पाई. अब यह टीम एक और इतिहास रचने के मुहाने पर खड़ी है. भारत ने दक्षिण अफ्रीका में अभी तक कोई भी वनडे सीरीज नहीं जीती है. शनिवार को होने वाले मैच में भारत के पास पहली बार दक्षिण अफ्रीका में सीरीज जीतने का मौका है.Also Read - IPL 2021: ब्रावो ने कही दिल की बात- CSK के लिए प्वाइंट्स जीतना, मैन ऑफ द मैच अवार्ड जीतने से कहीं बड़ा

Also Read - IPL 2021, RCB vs CSK: Virat Kohli ने जड़ा No Look Six, स्टेडियम से बाहर गिरी गेंद, देखें Video

छह वनडे मैचों की सीरीज के शुरुआती तीन मैच जीत भारत ने 3-0 की बढ़त ले ली है. अब वह सीरीज हार नहीं सकता. सीरीज का चौथा वनडे शनिवार को वांडर्स मैदान पर खेला जाएगा. इस मैच में अगर भारत को जीत मिलती है तो वह सीरीज अपने नाम करने और इतिहास रचने में सफल होगा. Also Read - RCB vs CSK Head to Head: आंकड़े देते हैं धोनी का साथ, किंग कोहली को करना होगा पलटवार

INDvSA: न्यूजीलैंड के पूर्व खिलाड़ी ने बताया चहल कैसे कर लेते हैं खतरनाक गेंदबाजी

‘विराट सेना’ की मौजूदा फॉर्म को देखकर यह लग रहा है कि चौथा मैच जीत यह टीम एक और इतिहास अपने नाम करेगी. मेहमान टीम के कप्तान कोहली खुद शानदार फॉर्म में रहते हुए टीम का नेतृत्व कर रहे हैं और वह अभी तक इस सीरीज में दो शतक लगा चुके हैं. शिखर धवन भी बल्ले से रन बना रहे हैं. भारत के लिए चिंता का सबब अगर कोई है तो सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा की फॉर्म.

मध्यक्रम को अभी तक सीरीज में ज्यादा मौका नहीं मिला है. हालांकि महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, हार्दिक पांड्या ने तीसरे वनडे में बल्लेबाजी की थी लेकिन कुछ खास प्रभाव नहीं छोड़ा था. हालांकि, सभी इन खिलाड़ियों की काबिलियत से वाकिफ हैं.

इस दौरे पर भारत की ताकत पहली बार उसकी गेंदबाजी बनकर उभरी है. टेस्ट सीरीज में तेज गेंदबाजों ने अपना जलवा दिखाया तो वहीं वनडे में स्पिनर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी ने मेजबानों की नाक में दम कर रखा है. बीते तीन वनडे मैचों में कुलदीप और चहल ने दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजों को काफी परेशान किया व भारत की जीत का अहम कारण बने.

वांडरर्स में विराट को मिली ‘खुशियों की चाबी’, अब दक्षिण अफ्रीका का करेंगे ‘दरवाजा बंद’ !

चौथे मैच में भी मेजबानों के लिए इन दोनों से निपटना खासी चुनौतीपूर्ण रहेगा. तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह भी वांडर्स की पिच पर कमाल दिखा सकते हैं. चौथा मैच दक्षिण अफ्रीका के लिए अलग महत्व रखता है. यह पिंक वनडे होगा जो स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता के लिए खेला जाता है. पहला पिंक वनडे साल 2011 में खेला गया था और यह छठा पिंक वनडे होगा.

पिंक जर्सी पहनने के बाद दक्षिण अफ्रीकी टीम कोई भी मैच नहीं हारी है. उसे उम्मीद है कि वह इस बार भी पिंक जर्सी में जीत की राह पर लौटेगी. तीन वनडे मैचों में बाहर बैठने वाले अब्राहम डिविलियर्स इस मैच में मैदान पर उतर सकते हैं. वह उंगली में चोट के बाद वापसी कर रहे हैं. लेकिन, उनका मैच में खेलना शुक्रवार दोपहर में होने वाले फिटनेस टेस्ट पर निर्भर करेगा.

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धौनी, हार्दिक पांड्या, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, शार्दूल ठाकुर.

दक्षिण अफ्रीका : एडिन मार्करम (कप्तान), हाशिम अमला, अब्राहम डिविलियर्स, क्विंटन डी कॉक (विकेटकीपर),जेपी ड्युमिनी, फरहान बेहरदीन, इमरान ताहिर, हेइनरिक क्लासेन, डेविड मिलर, मोर्ने मोर्कल, क्रिस मॉरिस, लुंगी एन्गिडी, आंदिले फेहुलकवायो, कागिसो रबादा, तबरेज शम्सी, खायो जोंडो.