विशाखापत्तनम में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट के दो दिनों में भारत का दबदबा रहा. टीम इंडिया पहले दो दिनों में पूरी तरह से प्रोटियाज पर हावी होती दिखी. लेकिन दक्षिण अफ्रीका की तरफ से डीन एल्गर और क्विंटन डी कॉक (Quinton de Kock) ने शतक लगाकर अपनी टीम का संतुलन बनाने में कामयाब रहें. एल्गर 160 रन बनाकर आउट हो गए, वहीं डी कॉक शतक बनाने के लिए मैदान में डटे रहें. डी कॉक ने अपनी पारी को संभालते हुए 111 रनों का महत्वपूर्ण योगदान दिया. अपनी 163 गेंदों की पारी में डी कॉक ने 16 चौकें और 2 छक्के लगाएं.

अपनी इस पारी के साथ साउथ अफ्रीका के इस स्टार बल्लेबाज ने अपने नाम एक नायाब रिकॉर्ड भी दर्ज करा लिया है. डी कॉक ने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट टेस्ट मैच में ये स्कोर बना कर खुद को एलीट लिस्ट का भी हिस्सा बना लिया है. वे भारत में किसी प्रोटियाज खिलाड़ी द्वारा सबसे ज्यादा रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं. इस लिस्ट में सबसे ऊपर साउथ अफ्रीका के दिग्गज एंड्रयू हॉल का नाम आता है जिन्होंने भारत की धरती पर अपनी डेब्यू इनिंग में 163 रन बनाए थे. ये कारनामा हॉल ने साल 2004 में कानपुर में किया था.

क्विंटन डी कॉक

हालांकि, अनुभवी सलामी बल्लेबाज डीन एल्गर (160), विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक (111) और कप्तान फाफ डु प्लेसिस (55) की शानदार पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीकी टीम ने मेजबान भारत के खिलाफ विशाखापत्तनम टेस्ट मैच में संषर्घ  जरूर दिखाया लेकिन आखिर के सेशन में आर अश्विन के ‘पंंच’ ने भारत की वापसी करा दी.

मेहमान टीम के इन बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों का डटकर सामना किया. तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने अपनी पहली पारी में 8 विकेट पर 385 रन बनाएं. मेहमान टीम मेजबान के पहली पारी में बनाए गए कुल रन संख्या से अब भी 117 रन पीछे है.

चौथे दिन दक्षिण अफ्रीकी टीम (South Africa) के 431 रन पर ऑलआउट करने के बाद टीम इंडिया (Team India) ने लंच तक बल्लेबाजी करते हुए एक विकेट खोकर 35 रन बना लिए हैं. पहले टेस्ट मैच में मेजबान टीम फिलहाल 106 रन की बढ़त पर हैं और सेट बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma) 25 रन बनाकर क्रीज पर टिके हुए हैं.

वाईएस राजशेखर रेड्डी स्टेडियम में चौथे दिन के खेल की शुरुआत दक्षिण अफ्रीकी पारी के साथ हुई. निचले क्रम के बल्लेबाज केशव महाराज (Keshav Maharaj) और सेनुरन मुथुसामी (Senuran Muthusamy) ने कल के स्कोर 358/8 से पारी को आगे बढ़ाया.

वाइजैग टेस्ट: लंच तक भारत का स्कोर 35/1, 106 रन की बढ़त बनाई