नई दिल्ली : भारत सोमवार को मुंबई में चौथे एकदिवसीय मैच में मजबूत प्रदर्शन कर रही वेस्टइंडीज की टीम से भिड़ेगा तो उसकी नजरें अपनी अंतिम एकादश में ‘परफेक्ट’ संतुलन बनाने पर टिकी होंगी. भारतीय टीम शनिवार को पुणे में पांच विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ उतरी लेकिन उसे हार का सामना करना पड़ा. वेस्टइंडीज के खिलाफ मौजूदा दौरे पर यह उसकी पहली हार है. Also Read - शब ए बारात के मौके पर बंद रहे कब्रिस्तान, सूनी पड़ी गलियां, सलमान खान ने फोटो शेयर कर लिखा....

सीरीज अब भी 1-1 से बराबर चल रही है जबकि दो मैच खेले जाने बाकी हैं. विराट कोहली की टीम को अगर सीरीज में अजेय बढ़त बनानी है तो क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया में सोमवार का मैच हर हाल में जीतना होगा. वेस्टइंडीज की टीम को पूरा श्रेय दिया जाना चाहिए जो टेस्ट सीरीज में लचर प्रदर्शन के बाद वापसी करने में सफल रही और मेजबान टीम को एकदिवसीय प्रारूप में कड़ी टक्कर दे रही है. Also Read - तबीयत खराब होने के बावजूद मजदूरों के लिए 12 घंटे भूखे रहेंगे इरफान खान, रखेंगे कठोर व्रत

मध्यक्रम के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी और महेंद्र सिंह धोनी की बल्ले से खराब फॉर्म का खामियाजा भी भारत को भुगतना पड़ रहा है. भारत को इंग्लैंड में अगले साल होने वाले एकदिवसीय विश्व कप से पूर्व सिर्फ 15 वनडे मैच और खेलने हैं और ऐसे में यह सिर्फ सोमवार को होने वाली मैच की समस्या नहीं है. टी20 टीम से बाहर किए जाने के बाद धोनी के पास अब फार्म में लौटने के लिए सीमित मौके बचे हैं. Also Read - अमिताभ बच्चन ने लॉकडाउन में सप्लाई करने वालों को किया सलाम, ये वीडियो शेयर कर कहा...

नरेन्द्र मोदी खिलाड़ियों की जमकर की तारीफ, कहा नए रिकॉर्ड बना रहे हैं भारतीय खिलाड़ी

पुणे में अंबाती रायुडू (22) लय में आने में सफल रहे थे लेकिन दायें हाथ के इस बल्लेबाज को अगर चौथे नंबर पर अपनी जगह पक्की करनी है तो लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होगा. पिछले मैच में धोनी से ऊपर पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करने वाले ऋषभ पंत ने आक्रामक रुख दिखाया है लेकिन अपनी पदार्पण एकदिवसीय श्रृंखला में उपयोगी पारी का उन्हें इंतजार है.

चयनकर्ताओं ने अंतिम दो मैचों के लिए केदार जाधव को टीम में जगह दी है जिससे भारत को मजबूती मिलेगी. हाल के समय में उनकी फिटनेस चिंता का विषय रही है लेकिन देवधर ट्रॉफी में पैर की मांसपेशियों से उबरकर वापसी के बाद अपने पहले प्रतिस्पर्धी मैच में वह प्रभावी नजर आए. जाधव की आक्रामक बल्लेबाजी के अलावा उनकी आफ स्पिन गेंदबाजी भी प्रभावी साबित हो सकती है.

सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और रोहित शर्मा लगातार दो मैचों में विफल रहे हैं और टीम को उनसे बड़ी साझेदारी की उम्मीद है. मेजबान टीम के लिए हालांकि सबसे सकारात्मक पक्ष कप्तान कोहली की फार्म है जिन्होंने पुणे में तीसरे वनडे में लगातार तीसरा शतक जड़ा और ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने. प्रशंसकों को कोहली से एक और शतक की उम्मीद होगी लेकिन कप्तान चाहेंगे कि उनकी टीम पिछले दो मैचों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करे.

नर्स ने विकेट लेने के बाद दिखाया ‘बाबा जी का ठुल्लू’, बताया कहां से सीखा जश्न का यह तरीका

गेंदबाजी की बात करें तो जसप्रीत बुमराह ने वापसी करते हुए शनिवार को तीसरे वनडे में चार विकेट चटकाए. भुवनेश्वर कुमार ने डेथ ओवरों में काफी रन लुटाए लेकिन उनके वापसी करने की उम्मीद है. विरोधी टीम के बल्लेबाजों को रोकने में दोनों स्पिनरों युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की भूमिका अहम होगी.

वेस्टइंडीज की सबसे बड़ी उम्मीद विकेटकीपर बल्लेबाज शाई होप हैं जिन्होंने विशाखापत्तनम में 123 और पुणे में 95 रन की दो अहम पारियां खेली. टीम को उनसे एक और बड़ी पारी की उम्मीद होगी और शिमरोन हेटमायर से भी जो तीसरे मैच में अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे. पुणे मैच से पहले बायें हाथ के बल्लेबाज हेटमायर ने 106 और 94 रन की पारियां खेली थी.

टीम को इसके अलावा कायरन पॉवेल, चंद्रपाल हेमराज और रोवमैन पॉवेल जैसे खिलाड़ियों से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद होगी. अनुभवी मार्लन सैमुअल्स ने तीसरे वनडे में गेंद से अच्छा प्रदर्शन किया और तीन विकेट चटकाए लेकिन उनका बल्ला अब तक खामोश रहा है. कप्तान जेसन होल्डर भी अपना योगदान देना चाहेंगे. पुणे में अच्छे प्रदर्शन के बाद तेज गेंदबाज ओबेड मैकाय और ऑफ स्पिनर एश्ले नर्स का आत्मविश्वास बढ़ा होना और वह अपनी टीम को अजेय बढ़त दिलाना चाहेंगे.

कोहली ने पुणे वनडे में हार के बाद केदार-हार्दिक को किया याद, कहा जाधव करेंगे कमबैक

इस मैच के साथ सीसीआई में लंबे समय बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी होगी. इस मैदान ने अपने पिछले टेस्ट की मेजबानी 2009 और एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच की मेजबानी 2006 में की थी.

संभावित प्लेइंग इलेवन :

भारत: रोहित शर्मा, शिखर धवन, अंबाती रायुडू, विराट कोहली (कप्तान), महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, खलील अहमद.

वेस्टइंडीज : कायरन पॉवेल, चंद्रपाल हेमराज, शाई होप (विकेटकीपर), मार्लोन सैमुअल्स, शिमरोन हेटमायर, रोवमैन पॉवेल, जेसन होल्डर (विकेटकीपर), फाबियान एलेन, एश्ले नर्स, केमर रोच, ओवेड मैकॉय