भारतीय क्रिकेट टीम के सहयोगी स्टाफ पर एंटीगा में महिला होटल कर्मचारी ने ‘अनुचित व्यवहार’ का आरोप लगाया था और बीसीसीआई ने इसे गलत पहचान का मामला बताते हुए खारिज कर दिया लेकिन इसका जिक्र तत्कालीन प्रशासनिक मैनेजर की बोर्ड से बातचीत में किया गया था।

Vijay Hazare: चार दिन में 30 में से 17 मैच चढ़े बारिश की भेट, BCCI ने लिया बड़ा फैसला

पूर्व टीम मैनेजर सुनील सुब्रमण्यम ने दावा किया था कि पिछले महीने वेस्टइंडीज के दौरे के दौरान टीम एंटीगा में 22 से 26 अगस्त तक हुए टेस्ट के मौके पर बेहद मुश्किल स्थिति में फंस गयी थी।

प्रशासकों की समिति (सीओए) को 25 सितंबर को भेजे गये ईमेल में सुब्रमण्यम ने पहले इस घटना की शिकायत की और फिर इस दावे को वापस ले लिया लेकिन इस सुझाव के साथ की कि सहयोगी स्टाफ के आरोपी सदस्य से बातचीत की जायेगी।

बीसीसीआई के अधिकारी ने पहले स्वीकार किया कि टीम होटल में यह घटना हुई थी लेकिन अब कहा कि यह गलत पहचान का मामला था और एंटीगा पुलिस द्वारा की गयी जांच में सहयोगी स्टाफ सदस्य दोषी नहीं पाया गया था।

भारतीय दिग्गज सौरव गांगुली बने दूसरी बार बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष

बीसीसीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘‘जांच पूरी होने के बाद पता चला कि यह गलत पहचान का मामला था। जिस स्टाफ के साथ यह कथित दुर्व्यवहार हुआ था, उसे सभी सहयोगी स्टाफ के सदस्यों की फोटो दिखायी गयी लेकिन वह किसी को भी पहचान नहीं सकी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘साथ ही जिस कमरे का नंबर बताया गया था, वह भारतीय दल के किसी भी सदस्य का नहीं था।’’ सुब्रमण्यम का कार्यकाल वेस्टइंडीज दौरे के दौरान भारतीय उच्चायोग के शीर्ष अधिकारियों के साथ गलत व्यवहार के आरोप के बाद समाप्त हो गया था।

वर्ल्‍ड कप में नंबर-4 पर खेलने के लिए रिषभ के पास पर्याप्‍त अनुभव नहीं था: युवराज सिंह

सीओए को पहले भेजे गये मेल में सुब्रमण्यम ने आरोप लगाया था कि इस मामले को दबा दिया गया था और जांच में पुष्टि हुई थी कि जूनियर सदस्य दोषी था। सुब्रमण्यम ने उस पत्र को वापस ले लिया था जिसमें उन्होंने लिखा था, ‘‘संबंधित सदस्य अब भी भारतीय टीम का हिस्सा है।’’

उन्होंने मेल में लिखा था, ‘‘होटल प्रबंधन, एंटीगा पुलिस, क्रिकेट वेस्टंडीज के रोलैंड होल्डर की जांच के अलावा मैंने टीम सुरक्षा मैनेजर और लाजिस्टिक मैनेजर के साथ पुष्टि की थी कि यह सहयोगी स्टाफ का सदस्य ही था।’’

बाद में अपनी शिकायत को वापस लेते हुए लिखे दूसरे मेल में सुब्रमण्यम ने लिखा, ‘‘मेरी इच्छा किसी पर व्यक्तिगत रूप हमला करने की नहीं है। जहां तक सहयोगी स्टाफ की नासमझी का संबंध है तो बेहतर यही होगा कि उससे बात की जाये कि इस तरह की नासमझी भविष्य में नहीं की जाये।’’