रोहित शर्मा (Rohit Sharma)-अंजिक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) की शतकीय पारियों के बाद गेंदबाजों के शानदार के दम पर भारतीय टीम ने रांची टेस्ट में एक पारी और 202 रन से बड़ी जीत हासिल की। इस जीत के साथ टीम इंडिया ने पहली बार टेस्ट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका को क्लीन स्वीप पर इतिहास रच दिया है।

मैच के आखिरी दिन 203 रन से पीछे चल रही मेहमान टीम 132/8 के स्कोर से आगे बल्लेबाजी करने उतरी। भारत को दिन की पहली सफलता शाहबाज नदीम ने दिलाई। नदीम ने थ्यूनिस डी ब्रॉयन को विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट करना दक्षिण अफ्रीका नौवां विकेट लिया और अगली गेंद पर लुंगी एनगिडी को खुद ही कैच आउट कर मेहमान टीम की पारी 133 रन पर समेटी।

टीम इंडिया की जीत की नींव पहली पारी में रोहित और रहाणे की 267 रन की साझेदारी ने रखी। सलामी बल्लेबाज रोहित ने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला दोहरा शतक जड़ा। वहीं रहाणे ने तीन साल बाद घरेलू जमीन पर शतकीय पारी खेली। कगीसो रबाडा और एनरिक नॉर्टजे के शुरुआती अटैक की बदौलत 39 रन पर तीन विकेट खोने के बाद रोहित और रहाणे ने मिलकर भारत को 497/9 के विशाल स्कोर तक पहुंचाया। इस दौरान रवींद्र जडेजा ने अर्धशतकीय पारी खेली, वहीं उमेश ने 10 गेंदो पर पांच छक्कों की मदद से 31 रन की विस्फोटक पारी खेल सभी का मनोरंजन किया।

कप्तान कोहली के पारी घोषित करने के बाद गेंदबाजों का काम शुरू हुआ। भारतीय गेंदबाजों ने एक बार फिर प्रोटियाज बल्लेबाजों के लिए मुश्किलें खड़ी की। डेब्यू मैच खेल रहे जुबैर हमजा ने जरूर 62 रन की पारी खेली लेकिन इसके बावजूद मेहमान टीम 162 रन पर ढेर हो गई। दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी में उमेश ने तीन विकेट लिए जबकि शमी, जडेजा और नदीम को 2-2 सफलताएं मिली।

335 रन की बढ़त के साथ कोहली ने दक्षिण अफ्रीका को फॉलोऑन दिया। दूसरी पारी में भी ना तो दक्षिण अफ्रीका की बल्लेबाजी में कोई बदलाव हुआ और ना ही भारत की गेंदबाजी में। शमी और उमेश ने एक बार फिर भारत को शुरुआती विकेट दिलाए और मात्र 36 रन के स्कोर पर आधी प्रोटियाज टीम को पवेलियन पहुंचा दिया।

जहां से स्पिन गेंदबाजों का काम शुरू हुआ और जडेजा-अश्विन ने मिलकर तीसरे दिन का खेल खत्म होने कर 132 रन पर दक्षिण अफ्रीका के आठ विकेट गिरा दिए। चौथे दिन तेज गेंदबाजों ने बचा हुआ काम नदीम ने पूरा दिया और मेहमान टीम को 133 के स्कोर पर ऑलआउट तक एक पारी और 202 रन से मैच जीत लिया।