साकेत कुमार Also Read - ऑस्ट्रेलिया ने की जमकर पिटाई, वनडे में दूसरी बार एक साथ इतना पिटे 4 बॉलर

दिल्ली. डरबन और सेंचुरियन में मेजबान दक्षिण अफ्रीका को रौंदने के बाद टीम इंडिया की नजर अब केपटाउन का किला जीतने पर है. इस इरादे को अमलीजामा पहनाने के लिए विराट एंड कंपनी की सारी तैयारियां पूरी हो चुकी है. इसके अलावा सीरीज में 2-0 की बढ़त से भारतीय खिलाड़ियों के हौसले भी बुलंद हैं. Also Read - India vs Australia 2020/21: हार्दिक पांड्या ने गेंदबाजी को लेकर दिया अहम अपडेट

जोहानिसबर्ग में आखिरी टेस्ट जीतने के बाद से टीम इंडिया ने प्रोटियाज टीम के खिलाफ जो जीत का मूमेंटम पकड़ा है वो बरकरार है. वनडे सीरीज के पहले दो मुकाबलों में टीम इंडिया ने बड़ी जीत की स्क्रिप्ट लिखी है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि वनडे सीरीज में भारतीय टीम की इस बड़ी सफलता का राज क्या है. दरअसल, इसके पीछे काम कर रही है, ‘पहले बचो, फिर तोड़ो’ की उनकी दमदार रणनीति. Also Read - रवींद्र जडेजा पर फिर बरसे संजय मांजरेकर, बोले- वनडे क्रिकेट में नहीं करते डिजर्व

भारतीय टीम की इस सफल रणनीति का खुलासा टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने की है. केपटाउन में प्रेस कॉन्फेंस के दौरान धवन ने कहा कि , ” हमारी सफलता की सबसे बड़ी वजह हमारा जल्दी विकेट नहीं गंवाना है. साउथ अफ्रीका की गेंदबाजी शानदार है लेकिन हमारी कोशिश पहले 10 ओवर में अपने विकेट को बचाने की होती है ताकि 10 ओवर के बाद जब गेंद पुरानी हो जाए तो हम बड़े शॉट्स खुलकर खेल सकें.”

टीम इंडिया की ये स्ट्रेटजी पहले दो वनडे में कारगर रही है और उम्मीद है कि केपटाउन में अब ये अपनी बढ़त को 3-0 को तब्दील करने में भी सफल रहेंगे. हालांकि, धवन के मुताबिक टीम इंडिया का फोकस सिर्फ वनडे सीरीज जीतने पर ही नहीं है बल्कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ क्लीन स्वीप करने पर भी है.

धवन ने कहा, ” हमारे लिए ये बड़ी सीरीज है. साउथ अफ्रीका ने टेस्ट सीरीज में बेहतर प्रदर्शन किया है. हमारी कोशिश यही है कि हम अपना 100 फीसदी दें और वनडे सीरीज के सभी मैच अपने नाम करें. ”

भारत अगर ऐसा कर पाता है तो साउथ अफ्रीकी सरजमीं पर 25 सालों में पहली बार वो ना सिर्फ वनडे सीरीज जीतने का इतिहास रचेगा बल्कि क्लीन स्वीप के साथ कामयाबी नही नई मिसाल भी पेश करेगा.