नई दिल्ली: भारतीय टीम ने मेलबर्न में खेले गए तीसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से हरा दिया. यह मुकाबला जीतकर टीम इंडिया ने वनडे सीरीज 2-1 से जीत ली. इस दौरे पर भारतीय टीम ने टेस्ट सीरीज भी 2-1 से जीती थी जबकि टी-20 सीरीज 1-1 की बराबरी पर छूटा. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसकी सरजमीं पर टीम इंडिया की द्विपक्षीय सीरीज में यह पहली जीत है. Also Read - ऑस्ट्रेलिया पर जीत के बाद कप्तान रहाणे ने कुलदीप यादव की तारीफ की; कहा- आपका टाइम आएगा

Also Read - कप्तान अजिंक्य रहाणे के पूछने पर गाबा टेस्ट में चोट के साथ गेंदबाजी को तैयार थे नवदीप सैनी

तीसरे वनडे में टॉस हारने के बाद पहले बैटिंग करते हुए ऑस्ट्रेलिया की पारी 230 रनों पर सिमट गई थी. महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव की बेहतरीन अर्धशतकीय पारियों की बदौलत भारत ने चार गेंद शेष रहते ही लक्ष्य हासिल कर लिया. धोनी 87 और जाधव 61 रन बनाकर नाबाद रहे. इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी कर ऑस्ट्रेलिया के लिए जीत की उम्मीदों को पूरी तरह खत्म कर दिया. Also Read - ऑस्ट्रेलिया के सफल दौरे से लौटे मोहम्मद सिराज ने खरीदी बीएमडब्ल्यू कार

231 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत धीमी रही और रोहित शर्मा भी जल्दी आउट हो गए. उन्होंने केवल 9 रन बनाए. इसके बाद शिखर धवन और विराट कोहली ने पारी को संभालने की कोशिश की, लेकिन धवन ज्यादा देर टिक नहीं पाए. 17वें ओवर में वे स्टोइनिस की गेंद पर 23 रन बनाकर आउट हुए. इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी मैदान पर आए और कोहली के साथ मिलकर धीरे-धीरे स्कोर को आगे बढ़ाने लगे. इन दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 82 गेंद में 54 रनों की साझेदारी की. इसी स्कोर पर कोहली झाय रिचर्डसन का शिकार बन गए. उन्होंने 46 रन बनाए. कोहली के आउट होने के बाद भी टीम इंडिया को जीत के लिए 20 ओवर में 118 रनों की जरूरत थी.

भुवी ने फिंच को दिया चकमा, वनडे सीरीज में पहली बार लगा ऐसा ‘सदमा’

इसके बाद धोनी ने केदार जाधव के साथ मोर्चा संभाला और कंगारू टीम को वापसी का कोई मौका नहीं दिया. दोनों ने एक-एक, दो-दो रन लेकर स्कोर को आगे बढ़ाया और भारतीय पारी से दबाव हटाया. अंतिम पांच ओवर में जब टीम को जीत के लिए 44 रनों की जरूरत थी, तब दोनों ने लंबे हाथ दिखाए और जाधव ने 50वें ओवर की दूसरी गेंद पर चौका लगाकर टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिला दी.

चहल ने चढ़ाई 7 स्पिनरों के रिकॉर्ड की बलि, वीरू ने कहा- ‘चहलका’ मचा दिया

इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम बल्लेबाजी के दौरान एकबार फिर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई. एलेक्स केरी और कप्तान एरोन फिंच टीम कोअच्छी शुरुआत नहीं दे पा और दोनों को भुवनेश्वर कुमार ने सस्ते में पवेलियन लौटा दिया. इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम का कोई भी बल्लेबाज युजवेंद्र चहल की फिरकी के आगे टिक नहीं पाया. सीरीज में पहला मैच खेल रहे चहल ने 42 रन देकर 6 विकेट लिए और कंगारू टीम को 49वें ओवर में ही 230 रनों पर ऑल आउट कर दिया. ऑस्ट्रेलिया के लिए पीटर हैंड्सकॉम्ब ने सबसे ज्यादा 58 रन बनाए जबकि शॉन मार्श ने 39 रनों की पारी खेली.