नई दिल्ली: भारतीय ओलम्पिक संघ (आईओए) तथा अन्य हितधारकों के साथ चर्चा के बाद एथलीट आयोग ने मंगलवार को यह जानकारी दी कि अब भारतीय महिला एथलीट किसी भी अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट के उद्घाटन समारोह में साड़ी नहीं पहनेंगी. एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए आईओए एथलीट आयोग के चेयरमैन मालव श्रौफ ने इसकी जानकारी दी.

आईओए ने हितधारकों और एथलीट प्रतिनिधियों के साथ मिलकर भारतीय महिला एथलीटों के लिए अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट उद्घाटन समारोह के परिधान को बदलने का फैसला किया. इसके तहत अब महिला एथलीटों को साड़ी और ब्लेजर के बजाए ब्लेजर और ट्राउजर्स में देखा जाएगा.

ब्रैडमैन को पीछे छोड़ सकते हैं कोहली, विव रिचर्ड्स के क्लब में हो सकते हैं शामिल

इसका साफ मतलब यह है कि अप्रैल में ऑस्ट्रेलिया के गोल कोस्ट में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के उद्घाटन समारोह में भारतीट महिला एथलीट इस नए परिधान में नजर आएंगी. आईओए ने अपने एक बयान में कहा कि एथलीटों के लिए यह परिधान अधिक सहज और सही है. इस फैसले के लिए एथलीट आयोग ने आईओए का शुक्रिया अदा किया है.

बता दें कि भारतीय महिला खिलाड़ियों में साड़ी पहनने की परम्परा काफी पुरानी है. इसे ओलम्पिक और अन्य अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में अब तक निभाया जा रहा था. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.