नई दिल्ली : रोहित शर्मा के नाबाद 152 रन और कप्तान विराट कोहली की 140 रन की पारी की मदद से भारत ने कठिन लक्ष्य का पीछा करते हुए पहले एक दिवसीय क्रिकेट मैच में वेस्टइंडीज को आठ विकेट से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला में 1-0 से बढ़त बना ली. वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए शिमरोन हेटमायर की 106 रन की पारी की मदद से आठ विकेट पर 322 रन बनाये थे. जवाब में रोहित और विराट ने इस कठिन लक्ष्य को भी एकदम आसान बनाते हुए भारत को 47 गेंद बाकी रहते ही जीत दिला दी. रोहित ने 43वें ओवर की पहली गेंद पर चंद्रपाल हेमराज को छक्का लगाकर भारत को 326 रन तक पहुंचाया. इस मुकाबले के लिए कोहली को ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया. Also Read - IND vs AUS: क्‍या आप जानते हैं Team India New Jersey पर तीन स्‍टार का क्‍या है मतलब ?

Also Read - India vs Australia: रोहित की चोट पर बोले Virat Kohli- हमें अभी तक कुछ क्लियर नहीं

गुवाहाटी के बारसापारा क्रिकेट स्टेडियम पर भारत की यह पहली वनडे जीत है. वनडे क्रिकेट में यह तीसरी बार हुआ है जब किन्हीं दो भारतीय बल्लेबाजों ने 140 के पार का स्कोर बनाया है. रोहित 117 गेंद में 15 चौकों और आठ छक्कों की मदद से 152 रन बनाकर नाबाद रहे. वहीं विराट ने अपना बेहतरीन फार्म बरकरार रखते हुए 107 गेंद में 140 रन बनाये जिसमें 21 चौके और दो छक्के शामिल थे. दोनों ने दूसरे विकेट के लिये 246 रन की साझेदारी की. Also Read - IND vs AUS: इस बार मैदान में दर्शकों की भी होगी वापसी, Virat Kohli को आउट करना होगा मुश्किल

विराट कोहली ने सचिन को छोड़ा पीछे, ऐसा करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी

कोहली का यह 36वां वनडे शतक है जबकि रोहित का 20वां शतक है. दोनों के बीच 15वीं बार शतकीय साझेदारी हुई है जिसमें पांचवीं बार 200 से अधिक रन बने. कोहली को अब एक दिवसीय क्रिकेट में 10000 रन का आंकड़ा छूने के लिये सिर्फ 81 रन की जरूरत है. कोहली ने इसके साथ ही एक कैलेंडर वर्ष में 2000 अंतरराष्ट्रीय रन भी पूरे कर लिये. उन्होंने सचिन तेंदुलकर के लगातार तीन साल 2000 से अधिक रन बनाने के रिकॉर्ड की बराबरी भी की. कोहली लेग स्पिनर देवेंद्र बिशू की गेंद पर स्टम्प आउट हुए जिसके बाद रोहित ने अंबाती रायुडू (22) के साथ मिलकर भारत को जीत तक पहुंचाया.

भारत ने पहला विकेट दूसरे ओवर में 10 रन पर ही गंवा दिया था जब सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (4) को थामस ने बोल्ड किया. इसके बाद कैरेबियाई गेंदबाजों को हताशा ही हाथ लगी क्योंकि ना तो उन्हें विकेट मिली और ना ही वे आग उगलते रोहित और विराट के बल्लों पर अंकुश लगा सके. इससे पहले हेटमायर (106) के शानदार शतक की बदौलत वेस्टइंडीज ने टेस्ट श्रृंखला के लचर प्रदर्शन से वापसी करते हुए आठ विकेट पर 322 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया.

रोहित शर्मा के तूफानी शतक से टूटे कई रिकॉर्ड, पोटिंग-वॉटसन को पीछे छोड़ा

बायें हाथ के 21 वर्षीय खिलाड़ी ने वेस्टइंडीज को बांग्लादेश में 2016 में पहला अंडर-19 विश्व कप खिताब दिलाने में अहम भूमिका अदा की थी. उन्होंने भारत के गेंदबाजी आक्रमण का डटकर सामना करते हुए अपना तीसरा वनडे शतक जड़ा.

उन्होंने 78 गेंद की अपनी रोमांचक पारी के दौरान छह चौके और इतने ही छक्के लगाये. भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति (पहले दो वनडे में इन्हें आराम दिया गया है) में भारत कैरेबियाई टीम के खिलाफ रन गति को रोकने में जूझता दिखा. गेंदबाजी लचर दिख रही थी जबकि क्षेत्ररक्षण भी अच्छा नहीं रहा. ऐसा लगता है कि टेस्ट सीरीज जीतने के बाद आत्मविश्वास से लबरेज भारत ने अपनी प्रतिद्वंद्वी टीम को हल्के में लिया.

गुवाहाटी में विराट कोहली का तूफानी शतक, डिविलियर्स समेत कई दिग्गज खिलाड़ियों को पीछे छोड़ा

हेटमेयर ने 41 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया और रोवमैन पॉवेल (22) और कप्तान जेसन होल्डर (38) के साथ 50-50 रन से ज्यादा की भागीदारियां निभायीं. देवेंद्र बिशू ने नाबाद 22 और केमार रोच ने नाबाद 26 रन बनाये. हेटमेयर ने मोहम्मद शमी की गेंद को एक्सट्रा कवर में छक्के के लिये भेजकर अपना शतक पूरा किया. उन्होंने तेज गेंदबाजों के खिलाफ तो तेजी से रन जुटाये ही, पर युजवेंद्र चहल और रविंद्र जडेजा की स्पिन जोड़ी के खिलाफ भी अच्छी बल्लेबाजी की. लेकिन शतक पूरा करने के तुरंत बाद जडेजा की गेंद पर आउट हो गये.

छह दिन के अंदर टेस्ट सीरीज 0-2 से गंवाने क बाद वापसी की कोशिश में जुटी वेस्टइंडीज ने घरेलू कप्तान विराट कोहली द्वारा बल्लेबाजी का न्यौता दिये जाने के बाद शानदार प्रदर्शन किया. सलामी बल्लेबाज कीरान पॉवेल ने 39 गेंद में छह चौके और दो छक्के से 51 रन की अर्धशतकीय पारी खेली. उन्होंने शाई होप (32) के साथ दूसरे विकेट के लिये 67 रन की भागीदारी निभायी. वेस्टइडीज ने तीन विकेट जल्दी गंवा दिये लेकिन मर्लोन सैमुअल्स के अपने 200वें मैच में शून्य पर आउट होने के बाद गयाना के युवा बल्लेबाज ने जिम्मेदारी से बल्लेबाजी की.