कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जुलाई-अगस्त में आयोजित होने वाले टोक्यो ओलंपिक को भी अगले साल के लिए स्थगित कर दिया गया है. इससे पहले विश्व में लगभग सभी खेल प्रतियोगिताओं को या तो स्थगित कर दिया गया है या उन्हें रद्द कर दिया गया है. टोक्यो ओलंपिक के स्थगित होने को भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छा कदम बताया है. जिंदगी पहले है, हम इंतजार कर सकते हैं. टोक्यो ओलंपिक खेलों केस्थगित होने के बाद भारतीय खिलाड़ियों की यह पहली प्रतिक्रिया थी. Also Read - Lockdown In India: लॉकडाउन में भारतीयों को भा रहे ये Apps, घंटों इन पर लगे रहते हैं लोग

COVID-19: कपिल देव का घरेलू मैदान अस्थायी जेल में तब्दील! ये है वजह Also Read - भारत, जापान में बढ़ रहे कोविड-19 के मामले, कई देशों में कम हो रहा प्रकोप

हर चार साल में होने वाले ओलंपिक खेल टोक्यो में 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच आयोजित किए जाने थे लेकिन जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) अध्यक्ष थॉमस बाक के बीच टेलीफोन पर बातचीत के बाद इन्हें अगले साल गर्मियों तक स्थगित कर दिया गया. Also Read - केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए कोविड-19 आपात पैकेज को दी मंजरी 

‘अभी स्थिति अच्छी नहीं है. जिंदगी हमें पहले आती है’

लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने पीटीआई से कहा, ‘अभी स्थिति अच्छी नहीं है. जिंदगी हमें पहले आती है, हर चीज के लिए इंतजार किया जा सकता है. खिलाड़ियों की सुरक्षा सर्वोपरि है. जिसने भी फैसला किया, उन्होंने इस पर गौर किया. मेरा मानना है कि यह सभी के लिये अच्छा है.’

उन्होंने कहा, ‘अब मुझे अभ्यास के लिए अधिक समय मिल जाएगा. हम अपने अभ्यास कार्यक्रम को बढ़ा सकते हैं. और यह केवल मेरे लिये नहीं है. यह दुनिया भर के खिलाड़ियों पर लागू होता है.’ लंदन ओलंपिक की एक अन्य कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल ने भी इसी तरह के विचार व्यक्त किये.

उन्होंने कहा, ‘खुशी है कि इन्हें स्थगित कर दिया गया हालांकि हम कुछ खिलाड़ी क्वालीफाई नहीं कर पाये थे. हम यह जानने के इच्छुक हैं कि आगे क्वालीफिकेशन की प्रक्रिया कैसे होगी.’

‘यह अच्छा फैसला है क्योंकि हर कोई परेशान है’

भारत की तरफ से पदक के प्रबल दावेदार माने जा रहे पहलवान बजरंग पूनिया ने कहा, ‘यह अच्छा फैसला है क्योंकि हर कोई परेशान है. खिलाड़ियों का स्वास्थ्य सर्वोपरि है. कोई भी ढंग से अभ्यास नहीं कर पा रहा था. यह केवल भारत से जुड़ा मामला नहीं है यह पूरे विश्व की बात है. हमें सबसे पहले इस महामारी से लोगों को बचाना होगा.’

पूर्व विश्व चैंपियन भारोत्तोलक मीराबाई चानू का भी मानना है कि यह खिलाड़ियों के लिये अच्छा फैसला है.

उन्होंने कहा, ‘जो कुछ भी हुआ वह अच्छे के लिये हुआ. अब हमें तैयारी के लिये ज्यादा समय मिल जाएगा. यह मेरे प्रदर्शन के लिये अच्छा है. मैं अभ्यास जारी रखूंगी.’ निशानेबाज राही सरनोबत ने कहा, ‘हम अभ्यास नहीं कर पा रहे थे और इसलिए हमें तैयारी के लिये तीन चार महीने और चाहिए थे. अब हम नये सिरे से तैयारियां कर सकते हैं.’

कुश्ती में 57 किग्रा में ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाले पहलवान रवि दहिया ने कहा, ‘हम इस साल के ओलंपिक के लिये तैयार थे. हम तैयार थे लेकिन जब ऐसा कुछ होता है तो आप क्या कर सकते हैं. हम हमारे नियंत्रण से बाहर है. हम 2021 के लिये फिर से तैयारी करेंगे.’

पहली बार ओलंपिक में भाग लेने की तैयारी में जुटे चिराग शेट्टी और सात्विकसाइराज रंकीरेड्डी की बैडमिंटन पुरूष युगल जोड़ी ने भी इन खिलाड़ियों की हां में हां मिलाई.

COVID-19: टीम इंडिया के ओपनर मयंक अग्रवाल बोले, LOCKDOWN में ऐसे बिताएं घर पर समय

शेट्टी ने कहा, ‘अभी सही फैसला किया गया. यह दुखद है लेकिन वर्तमान परिस्थिति में यह समझदार फैसला है.’ रंदाज दीपिका कुमारी ने भी राहत की सांस ली.

उन्होंने कहा, ‘कहते हैं न कि जान है तो जहां है. सबसे पहले मैं प्रार्थना करती हूं कि सब कुछ सामान्य हो जाए और दुनिया कोरोना वायरस से सुरक्षित रहे.’ राइफल निशानेबाज अंजुम मोदगिल ने कहा, ‘इसकी सख्त जरूरत थी क्योंकि दुनिया में कोई भी खिलाड़ी तैयारी नहीं कर पा रहा था. यह अच्छा है कि ओलंपिक स्थगित कर दिये गये. अब हमारे पास अच्छी तरह से तैयार होने और योजना बनाने का समय होगा.’

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने मंगलवार को घोषणा की कि विश्व भर में फैली कोरोना वायरस महामारी के कारण टोक्यो ओलंपिक खेल 2020 को अगले साल गर्मियों तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.