कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण देश सहित विदेश में भी कई खेल प्रतियोगिताएं स्थगित कर दी गई हैं. इस वायरस से भारत में लगभग 150 लोग संक्रमित हैं जबकि इससे मरने वालों की संख्या तीन हो गई है. विदेश की बात करें तो लगभग दो लाख लोग इससे संक्रमित हैं वहीं आठ हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. Also Read - Covid-19: तेलंगाना में कोरोना वायरस से पहली मौत, 6 नए मामले

जब विराट कोहली के आक्रामक जश्न को देखकर पंचिंग बैग जैसा महसूस करने लगे थे जस्टिन लैंगर Also Read - Covid-19: BCCI ने प्रधानमंत्री के आपदा प्रबंधन राहत कोष में दिए 51 करोड़ रूपये

कोविड 19 महामारी के चलते इस साल होने वाले ओलंपिक की तैयारियों में बाधा आ गई है लेकिन भारतीय मुक्केबाजी के हाई परफार्मेंस निदेशक सैंटियागो नीवा का मानना है कि भारतीय मुक्केबाजों पर इसका असर नहीं पड़ेगा और यात्रा प्रतिबंध नहीं हटने पर भी वे घर पर तैयारी कर लेंगे . Also Read - कोरोना के भय से घर वापसी को बेताब प्रवासी मजदूर, आनंद विहार बस टर्मिनल पर जुटी हजारों की भीड़

नीवा ने 27 मार्च तक एहतियातन खुद को अलग कर लिया है. भारतीय टीम जॉर्डन में एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर से पहले इटली में तैयारी कर रही थी. इटली पर कोविड 19 की गाज सबसे ज्यादा गिरी है जहां 2000 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं .

नीवा ने फोन पर बातचीत में कहा, ‘अलग रहना काफी उबाऊ है. मैं यहां समय काट रहा हूं लेकिन हमें संयम से काम लेना होगा. यह दौर भी गुजर जाएगा. सावधानी बरतनी जरूरी है.’

अर्जेंटीना मूल के स्वीडिश कोच ने भारत की तैयारियों के बारे में पूछने पर कहा ,‘घबराने से क्या होगा. जो भी होगा, सभी देशों के लिए समान होगा. यात्रा प्रतिबंध नहीं हटने पर हमारे पास भारत में ही बेहतरीन बुनियादी ढांचा है जिससे तैयारियों पर असर नहीं पड़ेगा.’

प्‍लेइंग-11 का हिस्‍सा होने के बावजूद भज्‍जी नहीं देख पाए थे द्रविड़-लक्ष्‍मण की जादूई पारी, सचिन बने वजह

भारतीय मुक्केबाज ओलंपिक से पहले विदेश में तैयारी करते हैं. उन्हें मई में रूस में एक टूर्नामेंट खेलना था जो अब संभव नहीं दिखता. नीवा ने कहा, ‘पेरिस में विश्व क्वालीफायर नहीं हो रहे हैं. हमने 13 वर्गों में से नौ में ओलंपिक कोटा हासिल कर लिया है जिसका फायदा मिलेगा. हम पर कोई दबाव नहीं है.’