कोलकाता: भारत विश्व कप 2019 में अपने अभियान की शुरुआत दो जून की बजाय पांच जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ करेगा क्योंकि बीसीसीआई को लोढ़ा समिति की सिफारिशों के अनुरूप आईपीएल और अंतरराष्ट्रीय मैच के बीच 15 दिन का अनिवार्य अंतर रखना होगा. विश्व कप अगले साल 30 मई से 14 जुलाई के बीच यूनाइटेड किंगडम में खेला जाएगा. इस मसले पर आज यहां आईसीसी मुख्य कार्यकारियों की बैठक में चर्चा हुई.

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘‘अगले साल आईपीएल 29 मार्च से 19 मई के बीच खेला जाएगा. हमें 15 दिन का अंतर रखना होगा और विश्व कप 30 मई से शुरू होगा. 15 दिन का अंतर रखने के लिए हम पांच जून को ही पहला मैच खेल सकते हैं. इससे पहले हमें दो जून को पहला मैच खेलना था लेकिन हम उस दिन नहीं खेल सकते हैं.’’

दिलचस्प बात यह है इससे पहले आईसीसी के शीर्ष टूर्नामेंटों की शुरूआत भारत-पाकिस्तान के मुकाबले से होती थी क्योंकि इसमें स्टेडियम खचाखच भरा होता है. विश्व कप 2015 में ऑस्ट्रेलिया (एडिलेड) और चैंपियन्स ट्राफी 2017 (बर्मिंघम) में भी ऐसा हुआ था. अधिकारी ने कहा, ‘‘यह पहला अवसर है जबकि भारत और पाकिस्तान के बीच शुरू में मुकाबला नहीं होगा. यह टूर्नामेंट राउंड रोबिन ( विश्व कप 1992 की तरह जिसमें सभी टीमें एक दूसरे के खिलाफ खेलेंगी) लीग के आधार पर होगा.’’

…जब तेंदुलकर की कार के ऊपर चढ़कर नाचने लगे फैन्‍स, मास्‍टर ब्‍लास्‍टर ने अब भी सहेजकर रखी हैं वर्ल्‍ड चैंपियन बनने की यादें

बैठक में जो अन्य फैसले किए गए, उनमें 2019-23 के पांच साल के लिए भविष्य का दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) भी शामिल है. अधिकारी ने कहा, ‘‘जैसा हमने फैसला किया है, भारत इस दौरान सभी प्रारूपों में अधिकतम 309 दिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलेगा. यह पिछले पांच साल के चक्र से 92 दिन कम है.’’

आखिर क्यों फिल्म डायरेक्टर शिरीष कुंदर ने सानिया मिर्जा से बच्चे का नाम गालिब रखने को कहा ?

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि घरेलू टेस्ट मैचों की संख्या बढ़ाकर 15 से 19 होगी. ये सभी टेस्ट विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा होंगे.’’ यह भी पुष्टि हो गई है कि भारत अभी कोई दिन रात का टेस्ट मैच नहीं खेलेगा क्योंकि ये मैच विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा नहीं होंगे. अधिकारी ने कहा, ‘‘आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के सभी मैच दिन में और लाल गेंद से खेले जाएंगे. ऐसी स्थिति में गुलाबी गेंद से टेस्ट मैच खेलने का कोई मतलब नहीं बनता है.’’