पूर्व भारतीय क्रिकेटर कीर्ति आजाद अगर भारतीय क्रिकेटर्स संघ (आईसीए) के 11 अक्टूबर को होने वाले चुनाव में खिलाड़ियों के प्रतिनिधि के चुनाव में जीत दर्ज करते हैं तो पेंशन, चिकित्सा बीमा और हाल में संन्यास लेने वाली प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों को एकमुश्त अनुग्रह राशि जैसे मुद्दों पर ध्यान देना चाहते हैं.

रोहित शर्मा बोले- मोहम्मद शमी ने ‘रिवर्स स्विंग’ की कला में महारत हासिल कर ली है

बीसीसीआई की महत्वपूर्ण शीर्ष परिषद में आईसीए के खिलाड़ी प्रतिनिधि के चुनाव में आजाद को पूर्व भारतीय क्रिकेटरों अंशुमन गायकवाड़ और डोडा गणेश से टक्कर मिलेगी.

इस पद के लिए चौथे उम्मीदवार सौराष्ट्र और भारत ए के बाएं हाथ के पूर्व स्पिनर राकेश ध्रुव हैं.

दिल्ली के पूर्व कप्तान और 1983 विश्व कप विजेता भारतीय टीम के सदस्य आजाद को भरोसा है कि वह अतीत के कई प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों के जीवन में अंतर पैदा कर पाएंगे जो गुमनामी और गरीबी में जी रहे हैं.

Japan Open 2019 : वर्ल्ड नंबर वन नोवाक जोकोविच की खिताब के साथ वापसी

आजाद ने कहा, ‘मैं, अशोक मल्होत्रा (आईसीसीए का नया अध्यक्ष बनना लगभग तय), सुरिंदर खन्ना (आईपीएल शीर्ष परिषद में खिलाड़ी प्रतिनिधि) एक समूह के रूप में एक साथ हैं.’

बीसीसीआई के चुनावों के लिए पहली बार आजाद ने 13 सूत्रीय चुनाव घोषणा पत्र जारी किया.

इस घोषणा पत्र के बिंदू इस प्रकार हैं:-

एक प्रथम श्रेणी मैच खेलने वाले भी प्रत्येक क्रिकेटर को पेंशन दी जाएगी (फिलहाल पात्रता सीमा 25 मैच). क्रिकेटरों को दी जाने वाली मौजूदा पेंशन राशि में वृद्धि. प्रत्येक क्रिकेटर और उसके परिवार के आश्रितों सदस्य को ग्रुप मेडिकल इंश्योरेंग कवर. पांच साल पहले संन्यास लेने वाले सभी क्रिकेटरों को एकमुश्त अनुग्रह राशि (फिलहाल 2005 से पहले संन्यास लेने वालों को दी जाती है). रणजी ट्रॉफी और जूनियर राष्ट्रीय (आयु वर्ग) खिलाड़ियों को होने वाले भुगतान से जुड़ी विषमताओं और विसंगतियों को हटाना. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के समान यात्रा बीमा शामिल है.