सोशल मीडिया के दौर में किसी भी मशहूर शख्सियत को ट्रोल्स का सामना करना पड़ा है। चाहे अभिनेता हो या खिलाड़ी सभी सोशल मीडिया पर आलोचना झेलते हैं। भारतीय तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट इससे अलग नहीं हैं। हालांकि उनादकट ने चुप रहने के बजाय ट्रोल्स को जवाब देने का फैसला किया है। Also Read - बांग्लादेश टीम में मौका मिलने पर आईपीएल से नाम वापस लेने के लिए तैयार हैं मुस्ताफिजुर रहमान

ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत में उनादकट ने कहा, “एक समय पर, मुझे ऐसा लगता है कि लोग काफी ज्यादा कठोर हो जाते हैं, इतने ज्यादा कि वो भूल जाते हैं कि हम भी इंसान हैं। लेकिन इतना कहने के बाद, आप हर एक के पास जाकर उनकी मानसिकता नहीं जान सकते। वो ये सब मजे के लिए करते हैं या फिर केवल ध्यान खींचने के लिए। लोगों ने मुझसे कहा है कि उन्हें लकेर परेशान ना हो और ये कहा है कि सोशल मीडिया ऐसी चीज है जिसमें मुझे देखना ही नहीं चाहिए।” Also Read - IPL नीलामी में अनसोल्ड जाने के बाद कीवी बल्लेबाज ने जड़ा धमाकेदार अर्धशतक; फेल हुए RCB के सभी खिलाड़ी

बुमराह को गेंदबाजी की सलाह देने पर मांजरेकर पर भड़के फैन्‍स, कहा- ‘मुंह बंद रखों तुम’ Also Read - विश्व कप विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में IPL खेलना सपना सच होने जैसा: कृष्णप्पा गौतम

उनादकट ने आगे कहा, “ऐसा कभी नहीं हुआ कि किसी ने मेरे सामने आकर ऐसा कुछ कहा हो। मुझे लगता है कि ये लोग केवल सोशल मीडिया पर ही ऐसा बातें करते हैं। सामने वो कुछ नहीं बोलेगे। इसी बात से पता चलता है कि इन बातों का महत्व उतना नहीं है जितना आप सोचते हैं।”

उनादकट ने हाल ही में रणजी ट्रॉफी 2019-20 के दौरान सौराष्ट्र के लिए खेले हुए बड़ौदा के खिलाफ मैच में 12 विकेट लेकर प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 300 विकेट पूरे किए।

उनादकट ने अपनी इस उपलब्धि के बारे में ट्वीट कर अपने आलोचनों को जवाब दिया। उन्होंने लिखा, “वो कहते थे कि तुम राजकोट के होकर अच्छे तेज गेंदबाज नहीं बन सकते। मैंने उनकी कभी सुनी नहीं और ये तस्वीर मेरे लिए कई मायनों में खास है! हां मैंने बड़ौदा के खिलाफ मैच में 12 विकेट लिए लेकिन इसके साथ मैंने 300 प्रथम श्रेणी विकेट भी पूरे किए।”