ट्रेंट ब्रिज: इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन का खेल खत्म हुआ तो टीम इंडिया को जीत के लिए बस एक विकेट की दरकार थी. मौसम रुकावट नहीं बनता तो भारत की जीत चौथे दिन ही तय हो चुकी थी, लेकिन क्रिकेट फैन्स की निगाहें एक और रिकॉर्ड पर टिकी थीं. खास बात यह है कि भारतीय क्रिकेट टीम ने अब तक 525 टेस्ट मैच खेले हैं, लेकिन एक बार ही यह उपलब्धि हासिल कर सकी है.

जी हां, यह रिकॉर्ड है टेस्ट मैच में विपक्षी टीम के सभी 20 विकेट तेज गेंदबाजों द्वारा लेने का. चौथे दिन के अंत तक इंग्लैंड की दोनों पारियों में सभी 19 विकेट भारत के तेज गेंदबाजों ने ही लिए थे. आखिरी दिन जेम्स एंडरसन अश्विन की गेंद पर आउट नहीं हुए होते तो टीम इंडिया दूसरी बार यह रिकॉर्ड बनाने में कामयाब होती. हालांकि, इसके बावजूद टीम एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम करने में सफल रही. यह पहला मौका है जब विपक्षी टीम के 20 में से 19 विकेट टीम इंडिया के तेज गेंदबाजों ने लिए हैं. टेस्ट मैच में 18 विकेट तेज गेंदबाजों द्वारा लेने का रिकॉर्ड हालांकि टीम पहले तीन बार बना चुकी है. 1996 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डरबन में, 1997 में वेस्टइंडीज के खिलाफ ब्रिजटाउन ओर 2001 में श्रीलंका के खिलाफ कैंडी में भारतीय टीम के तेज गेंदबाज विपक्षी टीमों के 18 विकेट लेने में सफल रहे थे.

टीम इंडिया ने पांचवीं बार किया यह अनोखा कारनामा: पहले दो टेस्ट में हार, तीसरे में जीत

टेस्ट मैच में विपक्षी टीम के सभी 20 विकेट तेज गेंदबाजों द्वारा लेने का कीर्तिमान भारतीय टीम ने इसी साल बनाया था. साल की शुरुआत में जब टीम दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर गई थी तो जोहान्सबर्ग टेस्ट में सभी 20 विकेट तेज गेंदबाजों ने लिए थे. खास बात यह है कि इस मैच में भारतीय टीम में किसी स्पिन गेंदबाज को शामिल नहीं किया गया था.

जसप्रीत बुमराह ने दिखाया कि वह टीम इंडिया के लिए इतने अहम क्यों हैं

इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा सीरीज के इस मैच में टॉस हारने के बाद टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते 329 रनों का स्कोर खड़ा किया था. जवाब में इंग्लैंड की पहली पारी 161 रनों पर ही सिमट गई थी. इसमें सबसे अहम भूमिका हार्दिक पांड्या की रही जिन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 28 रन देकर पांच विकेट लिए. भारत ने दूसरी पारी में 7 विकेट पर 352 रन बनाकर पारी समाप्त घोषित की. 521 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम दूसरी पारी में 317 रनों पर ऑल आउट हो गई.