Samir Banerjee becomes Jr Wimbledon champion: विंबलडन चैंपियनशिप 2021 के एकल खिताबी मुकाबले में बंगाल के लड़के समीर बनर्जी ने भारत का नाम रौशन कर दिया. भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक समीर बनर्जी ने हमवतन विक्टर लिलोव को मात दी. उन्‍होंने रविवार को एक घंटे 21 मिनट में विक्‍टर को 7-5, 6-3 से हराकर ग्रैंड स्लैम लड़कों का एकल खिताब जीताAlso Read - Today’s Panchang, 31 July 2021: मासिक कालाष्टमी आज, जानें शुभ-अशुभ समय, पढ़ें पंचांग

समीर बनर्जी विंबलडन चैंपियनशिप जीतने वाले पहले भारतीय-अमेरिकी खिलाड़ी हैं. समीर ग्रैंड स्लैम में लड़कों का एकल खिताब जीतने वाले पहले भारतीय-अमेरिकी खिलाड़ी हैं. Also Read - Tokyo Olympics 2020 Day 9 Live Updates: PV Sindhu से मेडल की आस, तीरंदाजी में Atanu Das एकमात्र उम्मीद

इससे पहले चार भारतीयों – रामनाथन कृष्णन, रमेश कृष्णन, लिएंडर पेस और युकी भांबरी ने ग्रैंड स्लैम स्पर्धाओं में लड़कों का एकल खिताब जीता है. Also Read - Tokyo Olympic 2020: 8वें दिन बॉक्सिंग से पक्का हुआ भारत का दूसरा पदक, शनिवार को इन ऐथलीट्स से है आस

न्यू जर्सी के 17 वर्षीय दाएं हाथ के खिलाड़ी ने सेमीफाइनल मुकाबले में दो घंटे से कम समय में साशा गुयेमार्ड वायेनबर्ग को 7-6 (3), 4-6, 6-2 से हराया.

छह साल की उम्र में टेनिस खेलना शुरू करने वाले समीर हाल ही में फ्रेंच ओपन के पहले दौर में हार गए थे. अब समीर साल 2015 के बाद विंबलडन जूनियर चैम्पियन बनने वाले पहले और यह खिताब हासिल करने वाले कुल 12वें अमेरिकी बन गए हैं.

मैच के बाद समीर ने कहा, “यह गजब का अनुभव था. यह निश्चित रूप से सबसे बड़ी भीड़ है जिसके सामने मैं खेला. और मुझे लगता है कि मेरे पास अधिकांश भाग के लिए भीड़ का समर्थन था, इसलिए यह एक अद्भुत अनुभव था, और फिर उसके ऊपर जीतना कुछ ऐसा है जो मैं ‘ हमेशा याद रखूंगा.

हालांकि उन्होंने दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित टेनिस टूर्नामेंट्स में से एक का खिताब जीता है लेकिन बावजूद इससे वह अभी भी कॉलेज जाना चाहते हैं.

समीर ने कहा, मुझे लगता है कि मेरे लिए कॉलेज एक अच्छी चरित्र-निर्माण की चीज होगी, क्योंकि मुझे यकीन नहीं है कि मैं अभी पूरी तरह से पेशेवर होने के लिए पूरी तरह से तैयार हूं, इसलिए अभी के लिए, मैं अभी भी शायद कॉलेज जाने वाला हूं.