नई दिल्ली.   भारत के पूर्व फुटबाल खिलाड़ी और आई-लीग क्लब ईस्ट बंगाल के तकनीकी निदेशक सुभाष भौमिक को रिश्वत लेने के आरोप में अलीपुर की एक निचली अदालत ने तीन साल की सजा सुनाई. ‘गोल डॉट कॉम’ के अनुसार, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कोलकाता स्थित कंपनी से रिश्वत लेने के आरोप में 2005 में भौमिक को गिरफ्तार किया था. भौमिक तब केंद्रीय आबकारी विभाग में अधीक्षक के पद पर काम कर रहे थे. Also Read - WB Assembly Election: चुनाव से पहले बंगाल में CBI की छापेमारी, अभिषेक बनर्जी के करीबी पर है यह आरोप

Also Read - CBI ने 10 लाख रुपये की रिश्वत मामले में तीन GST अधिकारियों को किया गिरफ्तार

रिश्वत के चक्कर में हुई जेल Also Read - SSR Death Case: सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच को लेकर सीबीआई ने दी बड़ी जानकारी, कहा- एक्टर की मौत...

सीबीआई ने अपनी जांच के बाद बताया कि भौमिक ने कंपनी से 4 लाख की रिश्वत मांगी थी जो बाद में घटकर 1.5 लाख हो गई. सीबीआई ने भौमिक को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा था.

परिवार के 27 लोगों के दम पर आज पेरू को हरा देगा ये ऑस्ट्रेलियाई फुटबॉलर!

सजा के बाद मिली जमानत

अदालत में यह मामला 13 वर्षो तक चला और सोमवार को सुनवाई हुई. हालांकि, भौमिक को स्वास्थ्य खराब होने के कारण जमानत दे दी गई है. गिरफ्तारी के समय वह ईस्ट बंगाल के कोच थे लेकिन अदालत का फैसला आने के बाद भौमिक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.