भारतीय स्टार शतरंज प्लेयर विश्वनाथन आनंद (Viswanathan Anand) ने हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि क्रिकेट की दुनिया से संन्यास लेने के बारे में फैसला खुद महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को करना है. उन्होंने अपने करियर में वो सब कुछ हासिल कर लिया है जिसकी तलब दुनिया के हर खिलाड़ी को होती है. भारत का ये पूर्व कप्तान अब संतुष्ट होकर क्रिकेट को अलविदा कह सकता है. आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफइनल में टीम इंडिया की हार के बाद लोगों ने ये कयास लगाना शुरू कर दिया था कि अब धोनी जल्द ही रिटायर हो सकते हैं. धोनी ने इन चर्चाओं में हिस्सा नहीं लिया और ना ही कोई प्रतिक्रिया दी. उन्होंने प्रादेशिक सेना में अपनी रेजीमेंट के साथ काम करने के लिए ब्रेक लिया था. अभी वह परिवार के साथ समय बिता रहे हैं.

हालांकि, साउथ अफ्रीका के खिलाफ 15 सितंबर से शुरू होने वाली टी-20 सीरीज में धोनी को टीम में शामिल नहीं किया गया है. आनंद ने इस मामले में कहा, ‘उन्हें (धोनी को) पता है कि उनके लिए सही फैसला क्या है. लेकिन मुझे लगता है कि ऐसा कुछ नहीं बचा है जो उन्होंने हासिल नहीं किया हो.’

अंतराष्ट्रीय ग्रैंडमास्टर आनंद ने धोनी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने वो सब कुछ हासिल किया है जो वो हासिल करना चाहते थे. भारतीय क्रिकेट का एक सफल कप्तान ये निर्णय ले सकता है कि उसे कब संन्यास लेना चाहिए. विश्व चैंपियन आनंद ने धोनी के करियर को शानदार बताते हुए 2007 का टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 का एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय वर्ल्ड कप को याद किया और कहा, ‘बेशक वह (धोनी) यह जानने के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थिति में है कि वह अपने आगे के करियर में क्या चाहता है’.