युवा बल्लेबाज शेफाली वर्मा और जेमिमा रोड्रिग्स की उपयोगी पारियों तथा लेग स्पिनर पूनम यादव की शानदार गेंदबाजी से भारतीय महिला टीम ने दक्षिण अफ्रीका को चौथे टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में 51 रन से हराकर पांच मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली है.

‘भारत ने हमारे खिलाड़ियों पर पाकिस्तान दौरा नहीं करने का दबाव नहीं बनाया’

भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर निर्धारित 17 ओवर में चार विकेट पर 140 रन बनाए. दक्षिण अफ्रीका की टीम इसके जवाब में सात विकेट पर 89 रन ही बना सकी.

भारत ने पहले मैच में 11 रन से जीत दर्ज की थी जबकि दूसरा और तीसरा मैच बारिश की भेंट चढ़ गया था. इन दोनों टीमों के बीच पांचवां टी20 मैच चार अक्टूबर को खेला जाएगा.

अपने पहले मैच में खाता खोलने में नाकाम रही 15 वर्षीय शेफाली ने दक्षिण अफ्रीका के लचर क्षेत्ररक्षण का फायदा उठाकर 33 गेंदों पर पांच चौकों और दो छक्कों की मदद से 46 रन बनाए जबकि रोड्रिग्स ने 22 गेंदों पर 33 रन की पारी खेली.

अश्विन भारतीय टीम के सबसे महत्वपूर्ण सदस्यों में से एक : तेंदुलकर

दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज मुश्किल लक्ष्य के सामने शुरू से जूझती रही. भारतीय स्पिनरों ने उन पर अंकुश लगाए रखा. पूनम यादव ने तीन ओवर में 13 रन देकर तीन विकेट लिए. राधा यादव (16 रन देकर दो) और दीप्ति शर्मा (चार ओवर में 19 रन देकर एक विकेट) ने उनका अच्छा साथ दिया.

दक्षिण अफ्रीका की तरफ से तेनजिम ब्रिटस (20) और लॉरा वोल्वार्ट (23) ही दोहरे अंक में पहुंच पाईं.

मैच 17-17 ओवर का खेला गया 

इससे पहले आउटफील्ड गीला होने के कारण मैच 17 – 17 ओवर का कर दिया गया. पहले बल्लेबाजी का न्योता पाने वाले भारत को शेफाली और स्मृति मंधाना (19 गेंदों पर 13 रन) ने पहले विकेट के लिए 52 रन जोड़कर अच्छी शुरुआत दिलाई. शेफाली को पहले अपनी टाइमिंग से जूझना पड़ रहा था. इस बीच उन्हें और मंधाना को जीवनदान भी मिले.

शेफाली शुरू से ही आक्रामक शॉट खेलने के मूड में दिखी. लेग स्पिनर सुन लुस पर लगाया गया उनका छक्का दर्शनीय था लेकिन भाग्य भी उनके साथ था क्योंकि टुमी सेखुखुने पर लगाया गया उनका छक्का मिडविकेट पर क्षेत्ररक्षक के हाथ से छिटककर सीमा रेखा पार गया था.

भारत ने मंधाना के रूप में पहला विकेट गंवाया जिन्होंने नाडिन डि क्लार्क (24 रन देकर दो) की गेंद पर मिगनॉन डु प्रीज को कैच दिया. शेफाली भी अर्धशतक पूरा नहीं कर पायी. सेखुखुने (22 रन देकर एक) की गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर विकेटों में समा गई.

कप्तान हरमनप्रीत कौर (नौ गेंदों पर 16 रन) आते ही गेंदबाजों पर हावी हो गईं. स्पिनर नोनकुलुलेका मलाबा पर लगाया गया उनका छक्का टाइमिंग का शानदार नमूना था लेकिन डि क्लार्क की गेंद पर उन्होंने लांग ऑन पर आसान कैच दे दिया.

रोड्रिग्स से 16वें ओवर में आउट होने से पहले एक छोर संभाले रखा. उन्होंने अपनी पारी में पांच चौके लगाए. दीप्ति शर्मा ने अंतिम क्षणों में 16 गेंदों पर नाबाद 20 रन बनाए जबकि पूजा वस्त्राकर पांच रन बनाकर नाबाद रहीं.