नई दिल्ली: एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में गत चैंपियन भारतीय महिला हॉकी टीम शनिवार को अपने आखिरी मैच में मेजबान दक्षिण कोरिया से भिड़ेगी. अनुभवी डिफेंडर सुनीता लाकड़ा के नेतृत्व में टीम ने अपने पिछले तीन मुकाबलों में जापान को 4-1 से, चीन को 3-1 से और मलेशिया को 3-2 से मात दी है. विश्व रैंकिंग में नौंवें नंबर की टीम दक्षिण कोरिया के खिलाफ उसके घरेलू मैदान पर मुकाबला करना भारत के लिए चुनौतीपूर्ण होगा. हालांकि यह मुकाबला रविवार को मेजबान देश के खिलाफ होने वाले फाइनल मैच के लिहाज से भारत के लिए खुद को तैयार करने का मौका होगा. Also Read - तनाशाह किम जोंग उन की नहीं हुई है मौत! पड़ोसी दक्षिण कोरिया ने साफ की स्थिति

Also Read - रैपिड टेस्टिंग किट पर दोगुने दाम वसूल रहा चीन, हरियाणा सरकार ने ऑर्डर किया रद्द, अब इस कंपनी को मिला ठेका

दक्षिण कोरिया ने अपने तीन मुकाबलों में मलेशिया को 3-1 से, चीन को 3-1 से हराया था और जापान के खिलाफ 1-1 से ड्रॉ खेला था. भारतीय कोच शुअर्ड मरिन ने मैच की पूर्व संध्या पर संवाददाता सम्मेलन में कहा, “कोरिया एक अच्छी टीम है लेकिन हमारे खिलाड़ियों ने भी टूर्नामेंट में काफी आत्मविश्वास के साथ खेला है. हम इस बात को लेकर चिंतित नहीं है कि यह उनका घरेलू मैदान है बल्कि हम अपने खेल पर ध्यान देना चाहते हैं और इसी लय को आगे भी बरकरार रखना चाहते हैं.” Also Read - Covid19 Fight: छत्तीसगढ़ सरकार कोरोना टेस्ट के लिए दक्षिण कोरिया से खरीदेगी 75 हजार रैपिड टेस्ट किट

टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी को जिम्बाब्वे ने बनाया कोच, हासिल कर चुके हैं यह बड़ी उपलब्धि

उन्होंने कहा कि भारत को यह सुनिश्चित करना होगा कि वह दक्षिण कोरिया जैसी टीमों के खिलाफ गलती न करें. उन्होंने कहा, “कोरिया जैसी टीम के खिलाफ होने वाला मैच हमारे लिए काफी अहम है. हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारी तरफ से कोई गलती न हो. इसके अलावा जगह बनाने के लिए हमें बाल को जल्दी से दूसरों को पास करने की जरूरत है.”

चेन्नई के खिलाफ खराब रहा है दिल्ली का रिकॉर्ड, टीम को धोनी से रहना होगा सावधान

कोच ने कहा, “उस टीम के खिलाफ खेलना कभी आसान नहीं होता है जो अपने सर्कल में 11 खिलाड़ियों के साथ खेलती है. मैच को हमें अपने पक्ष में करने के लिए, यह जरूरी है कि हम अधिक से अधिक पेनल्टी कॉर्नर हासिल करें और आसान मौकों को हाथ न जाने दें.” मरिन ने कहा, “इस मैच से हमें यह समझने को मिलेगा कि वे कैसे खेलते हैं और फाइनल से पहले हमें क्या बदलाव करने की जरूरत है.”