नई दिल्ली : भारतीय महिला स्क्वाश टीम शनिवार को जकार्ता में फाइनल में हॉन्गकॉन्ग से हार गयी और इस तरह से एशियाई खेलों में उसे लगातार दूसरी बार रजत पदक से संतोष करना पड़ा. सुनन्या कुरूविला और भारत की नंबर एक जोशना चिनप्पा अपने एकल मैच गंवा बैठी. भारत की यह हॉन्गकॉन्ग के हाथों तीन दिन के अंदर दूसरी हार है. भारत के लिये रजत पदक जीतना भी उपलब्धि है. उसने सेमीफाइनल में मलेशिया को हराया था. भारतीय टीम ने चार साल पहले इंचियोन में भी रजत पदक जीता था.Also Read - Tokyo Paralympics 2020: PM मोदी ने Noida DM को सिल्‍वर जीतने पर दी बधाई, परिवार में जश्‍न

Also Read - Tokyo Paralympics: योगेश कथूनिया बोले- मैंने कोच के बिना प्रैक्‍ट‍िस की थी, ये सिल्‍वर मेरे लिए गोल्‍ड जैसा

भारतीय स्क्वाश दल ने इस तरह से 18वें एशियाई खेलों में पांच पदक जीते जिनमें महिला टीम के रजत के अलावा पुरूष टीम का कांस्य तथा व्यक्तिगत स्पर्धाओं के तीन कांस्य पदक शामिल हैं. पहला एकल मैच दोनों टीमों की सबसे कमजोर खिलाड़ियों के बीच था. इसमें विश्व की 88वें नंबर की कुरूविला को 51वें नंबर की ताइजी लोक हो से 8-11, 6-11, 12-10, 3-11 से हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद चिनप्पा पर भारत का दारोमदार था लेकिन वह एनी से एकतरफा मुकाबले में 3-11, 9-11, 5-11 से हार गयी. Also Read - Tokyo Paralympics: भारत को 4 मेडल म‍िले, अवनि लेखरा ने गोल्‍ड, योगेश कठुनिया और देवेंद्र झाझरिया ने सिल्वर, सुंदर सिंह गुर्जर ने कांस्‍य जीता

AsiaCup2018 : कोहली की जगह रोहित बने टीम इंडिया के कप्तान, इन कारणों से विराट को दिया आराम

इससे पहले सेमीफाइनल में भारत की महिला स्क्वॉश टीम ने शानदार प्रदर्शन कर फाइनल में प्रवेश किया था. जोशना चिनप्पा, दीपिका पल्लिकल कार्तिक, सुनैना कुरुविल्ला और तन्वी खन्ना की टीम ने सेमीफाइनल मुकाबले में मलेशिया को 2-1 से हराकर फाइनल में जगह बनाई थी. इस मुकाबले के पहले मैच में जोशना ने मलेशिया की निकोल डेविड को 12-10, 11-9, 6-11, 10-12, 11-9 से मात देकर भारतीय टीम को 1-0 की बढ़त दी थी. भारत ने इसके बाद दूसरे मुकाबले में भी जीत हासिल करते हुए फाइनल में जगह बनाई, जहां उसका सामना जापान या हांगकांग में से किसी एक टीम से होगा.