इंदौर टेस्ट के शुरू होने से पहले से ही भारतीय टीम ने गुलाबी गेंद से अभ्यास की शुरुआत कर दी थी। मैच के दूसरे दिन रोहित शर्मा (Rohit Sharma), चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) समेत कुछ खिलाड़ियों ने पहली बार फ्लडलाइड्स के नीचे गुलाबी गेंद से बल्लेबाजी का अभ्यास किया। अब खबर है कि बांग्लादेश को पहले मैच में हराने के बाद भारतीय खिलाड़ी इंदौर में ही रुककर गुलाबी गेंद से अभ्यास करेंगे।

टीम इंडिया को 22 नवंबर से कोलकाता में पहला डे-नाइट टेस्ट मैच (1st Day Night Test) खेलना है। जिसकी तैयारी के लिए टीम रविवार शाम इंदौर के होलकर स्टेडियम में अभ्यास करेगी।

बांग्लादेश की टीम ने भी भारतीय टीम की तरह इंदौर में ही रूकने का फैसला किया है ताकि पहले टेस्ट के जल्दी खत्म होने से बचे समय का सही उपयोग कर सके। पता चला है कि अगले दो दिन भारतीय टीम का ध्यान ‘शाम’ के समय अभ्यास करने पर होगा। गुलाबी गेंद से खेलने वाले बल्लेबाजों के मुताबिक शाम के समय स्थिति काफी चुनौतीपूर्ण होती है।

ज्यादा टेस्ट मैच खेलने से प्रदर्शन में सुधार हो सकता है: बांग्लादेशी कप्तान मोमिनुल हक

पीटीआई से बातचीत में टीम से जुड़े एक सूत्र ने कहा, ‘‘हम शाम के समय अभ्यास करने पर ध्यान देंगे क्योंकि हमें ये नहीं पता की शाम में गेंद कैसा बर्ताव करेगी।’’

दलीप ट्रॉफी में गुलाबी गेंद से खेलने वाले कई खिलाड़ियों का कहना है कि शाम के समय गुलाबी गेंद को देखना मुश्किल होता है क्योंकि आकाश के लाल रंग के कारण गेंद नारंगी रंग की तरह दिखने लगती है। खिलाड़ी काले रंग की साइटस्क्रीन के सामने अभ्यास करेंगे।