नई दिल्ली. भारत-वेस्टइंडीज वनडे सीरीज अब अपने आखिरी पड़ाव पर है. दोनों टीमों के बीच सीरीज का आखिरी मैच तिरुवनंतपुरम में खेला जाएगा. टीम इंडिया इस सीरीज में 2-1 से आगे हैं. मतलब ये कि आखिरी वनडे में जीत के साथ 3-1 से सीरीज पर उसका कब्जा हो सकता है. दूसरी ओर कैरेबियाई टीम को पहले ही ये ट्वीट कर जता चुकी है कि तिरुवनंतपुरम की आबो-हवा में उसे अपनी घर वाली फीलिंग लग रही है. यानी, पलटवार कर सीरीज को बराबरी पर रोकने की कोशिश वो भी पुरजोर करेगी. Also Read - कोहली एंड कंपनी की फिटनेस की दीवानी है पड़ोसी टीम, दिग्गज खिलाड़ी ने किया स्वीकार

Also Read - 'चेज मास्टर' विराट कोहली का मुरीद हुआ ये ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज, बताई वजह

तिरुवनंतपुरम में खेले जाने वाले आखिरी वनडे में भारतीय टीम के प्लेइंग XI में कोई बड़ा बदलाव दिखने की गुंजाइश कम ही है. बेशक, केएल राहुल और मनीष पांडे को अभी तक मौका नहीं मिला है लेकिन जिस मोड़ पर सीरीज खड़ी है वहां से इन्हें मौका मिलना भी दूर की कौड़ी ही है. Also Read - टीम इंडिया के लिए खास है रोहित शर्मा-विराट कोहली की जोड़ी : कुमार संगकारा

विराट की ‘टेंशन’ दूर करने लिए अंबाती रायडू ने किया अपने पसंदीदा खाने का त्याग

ओपनर: रोहित शर्मा और शिखर धवन

रोहित शर्मा और शिखर धवन भारत की बेस्ट ओपनिंग जोड़ी है और इससे छेड़छाड़ की गुंजाइश कम ही है. पहले वनडे में शतक जमाने वाले रोहित शर्मा का दूसरे और तीसरे वनडे में अंदाज फीका दिखा लेकिन मुंबई में खेले चौथे वनडे में 162 रन की बड़ी पारी खेलकर उन्होंने एक बार फिर से सबका दिल जीत लिया.

एशिया कप 2018 में जबरदस्त परफॉर्मेन्स के बाद शिखर धवन का बल्ला वेस्टइंडीज के साथ सीरीज में बड़े स्कोर के लिए जूझ रहा है. सीरीज के 4 वनडे में उन्होंने अब तक एक भी अर्धशतक नहीं जड़ा है और सिर्फ 4, 29,35 और 38 रन का स्कोर किया है. ऐसे में धवन से सभी को आखिरी वनडे में बड़े स्कोर की उम्मीद रहेगी.

मिडिल ऑर्डर: विराट कोहली, अंबाती रायडू और एमएस धोनी

भारतीय बैटिंग ऑर्डर में नंबर 3 की पोजिशन कप्तान विराट कोहली के लिए कन्फर्म है. वनडे सीरीज में विराट अब तक लगातार 3 सेंचुरी जड़ चुके हैं और सीरीज के 4 मैचों में 420 रन बना चुके हैं. इन आंकड़ों से विराट के फॉर्म का अनुमान लगाया जा सकता है.

मुंबई में खेले चौथे वनडे में अंबाती रायडू ने नंबर 4 की पोजिशन पर शानदार शतक ठोककर अपना दावा इस ऑर्डर के लिए सुनिश्चित कर लिया है. जनवरी 2017 के बाद भारतीय टीम के टॉप 3 बल्लेबाजों के अलावा वनडे में शतक बनाने वाले रायडू पहले बल्लेबाज हैं.

वनडे क्रिकेट में भारत के लिए 10000 रन बनाने से एक रन दूर खड़े धोनी नंबर 5 की पोजीशन पर खेलेंगे. धोनी इस वक्त बुरे फॉर्म से गुजर रहे हैं और पिछले 10 वनडे में उनका बेस्ट स्कोर सिर्फ 36 रन का ही रहा है. वर्ल्ड कप 2019 को ध्यान में रखते हुए भारत धोनी पर दांव लगाता रहेगा और उनसे बेहतर की उम्मीद करेगा.

ऑलराउंडर्स: केदार जाधव और रवींद्र जडेजा

केदार जाधव वेस्टइंडीज के खिलाफ पूरी सीरीज का हिस्सा नहीं रहे. उन्हें आखिरी 2 वनडे के लिए टीम में जगह मिली. पुणे में खेले तीसरे वनडे में मिली हार के बाद विराट ने मुंबई में होने वाले चौथे वनडे में जाधव के खेलने का रास्ता साफ किया. उन्हें टीम में रिषभ पंत की जगह मौका मिला , जहां उन्होंने ताबड़तोड़ 16 रन बनाए. पंत सीरीज के पहले 3 मैचों में बल्ले से नाकाम रहे थे. केदार जाधव टीम इंडिया के वर्ल्ड कप मिशन का भी अहम हिस्सा हैं ऐसे में उनका ज्यादा से ज्यादा मैच खेलना जरूरी है ताकि लय में लौट सके. और, इस आधार पर आखिरी वनडे के प्लेइंग XI में भी उनकी जगह पक्की है.

टीम में दूसरे स्पिनर के तौर पर ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा को चौथे वनडे में मौका मिला था. विराट इसी सिलसिले को आखिरी वनडे में भी बरकरार रखना चाहेंगे. वनडे टीम में वापसी के बाद जडेजा ने गेंद के साथ साथ बल्ले से बेहतर योगदान दिया है. ऐसे में वो नंबर 7 की पोजिशन के लिए परफेक्ट च्वाइश होंगे.

पेसर्स: भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और खलील अहमद

स्ट्राइक बॉलर के तौर पर भुवनेश्वर और बुमराह भारत के सबसे बेहतर विकल्प हैं. हालांकि, वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले 2 मुकाबलों में भुवी थोड़े फीके रहे और ज्यादा रन लुटाए . ऐसे में कप्तान कोहली चाहेंगे कि ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले वो अपनी लय हासिल करें.

जसप्रीत बुमराह इस वक्त वनडे में भारत के नंबर एक गेंदबाज हैं और वो ICC रैंकिंग में भी टॉप पर बने हैं. उनके लिए वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज अब तक शानदार रही है. पहले 2 मुकाबलों में आराम के बाद बुमराह ने पुणे में सीरीज का पहला मैच खेला, जिसमें 35 रन देकर उन्होंने 4 विकेट चटकाए. पिछले एक साल से बुमराह के प्रदर्शन में कंसिस्टेंसी बरकरार है. भुवनेश्वर के साथ उनकी जोड़ी भारत की एक और सीरीज जीत की गवाह बन सकती है.

भारत के प्लेइंग XI में तीसरे तेज गेंदबाज के तौर पर खलील अहमद का खेलना तय है. खलील के साथ बड़ा एक्स फैक्टर ये है कि वो बाएं हाथ के तेज गेंदबाज हैं, जो कि इस वक्त भारतीय टीम की जरुरत है. घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के बाद 20 साल के खलील का इंटरनेशनल क्रिकेट में जोरदार आगाज हुआ है. विंडीज के खिलाफ चौथे वनडे में उन्होंने 5 ओवर की गेंदबाजी में 13 रन देकर 3 विकेट चटकाए. ऐसे में आखिरी वनडे में भी खलील को ड्रॉप करना मुश्किल लग रहा है.

स्पिनर: कुलदीप यादव

स्पिन डिपार्टमेंट में एक बार फिर विराट कोहली चहल पर कुलदीप को तरजीह दे सकते हैं और आखिरी वनडे में प्लेइंग XI में शामिल कर सकते हैं. 3 मैचों में 8 विकेट लेकर कुलदीप वनडे सीरीज के सबसे सफल गेंदबाज बने हुए हैं. इसके अलावा कुलदीप ICC वनडे रैंकिंग में भी टॉप 3 गेंदबाजों में शुमार हैं.