कोरोनावायरस के कारण भारत में स्थिति देखते ही देखते अति गंभीर होती जा रही है. आने वाले समय में खेल गतिविधियां शुरू होने की संभावना कम होनी चाहिए, लेकिन इसके बावजूद क्रिकेट साउथ अफ्रीका अगस्‍त-सितंबर में भारत दौर पर अड़ा है. Also Read - कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने में मदद करेगी गुजरात कोविड म्यूटेशन अध्ययन, जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय 

इस दौरे के लिए सीएसए खिलाड़ियों और अन्य हितधारकों को कोरोनावायरस से बचाने के लिये जैव सुरक्षित मॉडल का उपयोग कर सकता है.
इस जैव सुरक्षित मॉडल के तहत खेल स्थल में लगभग 350 लोगों के ठहरने की व्यवस्था की जा सकती है. जिसमें खिलाड़ी, प्रसारक, मीडियाकर्मी और अन्य स्टाफ शामिल हैं. ये सुविधाएं खेल परिसर या उसके बेहद करीब होनी चाहिए. Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

इस तरह के मॉडल में मैच स्थल पर 171 कमरों का होटल और उसके पास 176 कमरों का होटल होना चाहिए. सीएसए के मुख्य चिकित्सा अधिकारी शुएब मांजरा ने कहा कि जब भारत तीन टी20 मैचों की श्रृंखला खेलने के आएगा तो इस मॉडल का सुझाव दिया जाएगा. Also Read - चहल पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी के इस्‍तेमाल के मामले में युवराज सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज, पुलिस ने...

मांजरा ने सीएसए प्रबंधन के साथ मीडिया कांफ्रेंस में गुरुवार को कहा, ‘‘हो सकता है कि अगस्त या सितंबर में (कोविड-19) देश के विभिन्न भागों में अपने चरम पर हो इसलिए हम ऐसे मॉडल पर ध्यान दे रहे हैं और देखते हैं कि अगस्त में क्या होता है.’’

‘‘संभवत: भारत के साथ होने वाले तीन टी20 ऐसे मॉडल को तैयार करने का आदर्श अवसर हो. हम उस समय इस बारे में नहीं सोच सकते हैं. तब स्टेडियम के आसपास दर्शक होंगे. इसलिए हम जैव सुरक्षित वातावरण तैयार करके उसमें क्रिकेट खेल सकते हैं.’’