भारतीय क्रिकेट टीम ने इंदौर में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में बांग्लादेश की पहली पारी 150 रन पर समेट दी. भारत की ओर से तेज गेंदबाज इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और उमेश यादव की त्रिमूर्ति ने कुल 7 विकेट निकाले.

डेविड वॉर्नर की स्लेजिंग ने बेन स्टोक्स को दी ताकत, ठोक दी मैच विनिंग सेंचुरी

बांग्लादेश के कप्तान मोमिनुल हक ने स्वीकार किया कि पहले टेस्ट मैच के शुरुआती दिन भारत के दमदार तेज गेंदबाजी आक्रमण का सामना करने के लिए उनके टीम के पास जरूरी मानसिक मजबूती का अभाव था.

विकेट बल्लेबाजी के लिए खराब नहीं था

मोमिनुल ने पहले दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, ‘विकेट बल्लेबाजी के लिए खराब नहीं था या फिर मैंने या मुशफिकुर (रहीम) ने उतने रन नहीं बनाए जितने बनाने चाहिए थे. समस्या यह है कि जब आप विश्व की नंबर एक टेस्ट टीम के खिलाफ खेल रहे हों तो आपको मानसिक तौर पर अधिक मजबूत होना पड़ता है.’

मोमिनुल से जब उछाल वाली पिच पर टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने के फैसले के बारे में पूछा गया तो कप्तान ने उसका बचाव किया. उन्होंने कहा, ‘अगर हमने अच्छी शुरुआत की होती तो यह सवाल पैदा ही नहीं होता.’

‘तैयारी अच्छी है’

मोमिनुल से पूछा गया कि क्या खिलाड़ियों की हड़ताल को देखते हुए भारत के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला के लिये तैयारियां आदर्श थी, उन्होंने कहा, ‘मैंने व्यक्तिगत तौर पर पिछले पांच महीनों में नौ प्रथम श्रेणी मैच खेले और मुझे लगता है कि यह अच्छी तैयारी है. हां अंतर अच्छी गेंदबाजी का है जिसका हम सामना कर रहे हैं.’

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों के ब्रेक पर जाने पर इस दिग्गज ने उठाए सवाल, ‘महामारी’ से कर दी तुलना

उन्होंने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में निश्चित तौर पर गेंदबाजी का स्तर बढ़ जाता है. आप इस स्तर पर गेंदबाज से 120 या 130 किमी की रफ्तार से गेंदबाजी की उम्मीद नहीं कर सकते. यह शत प्रतिशत मानसिकता से जुड़ा है.’

‘मुझे भी लगता है कि मुशफिकुर का खेल नंबर पांच के अनुकूल है’

इस युवा कप्तान से पूछा गया कि मुशफिकुर को नंबर चार की बजाय नंबर पांच पर क्यों भेजा गया जबकि वह विशुद्ध बल्लेबाज के रूप में खेल रहे हैं, उन्होंने कहा, ‘यह टीम प्रबंधन का फैसला था कि उन्हें नंबर पांच पर आना चाहिए. मुझे भी लगता है कि उनका खेल नंबर पांच के अनुकूल है.’ भारतीय टीम इस टेस्ट में बड़ा स्कोर खड़ा कर सकती है.