इंदौर टेस्ट जीतने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम की नजर अब अपने पहले डे-नाइट टेस्ट पर टिक गई है। टीम इंडिया इस समय इंदौर में ही रूककर डे-नाइट टेस्ट की तैयारी कर रही है.  रविवार को टीम के कई सदस्यों ने होलकर स्टेडियम में दूधिया रोशनी में जमकर प्रैक्टिस की जबकि कप्तान विराट कोहली सहित कई खिलाड़ी इससे दूर रहे.

इंडिया के पहले डे-नाइट टेस्ट के शुभंकर होंगे ‘पिंकू और टिंकू’, BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने किया अनावरण

भारत और बांग्लादेश के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट 22 नवंबर से 26 नवंबर तक कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डंस में खेला जाएगा. दो मैचों की सीरीज में टीम इंडिया 1-0 से आगे है.

तेज गेंदबाजों ने बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट में 14 विकेट चटकाए थे जिसके बाद उन्हें ब्रेक दिया गया. भारत ने पहला टेस्ट पारी और 130 रन से जीता.

कोहली सहित कई खिलाड़ी ट्रेनिंग से दूर रहे

कप्तान विराट कोहली और रोहित शर्मा के अलावा मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव की तेज गेंदबाजी तिकड़ी ने ट्रेनिंग में हिस्सा नहीं लिया. इंदौर टेस्ट में दोहरा शतक जड़ने वाले ओपनर मयंक अग्रवाल और विकेटकीपर रिद्धिमान साहा ने भी ट्रेनिंग नहीं की.

इन खिलाड़ियों ने किया जमकर अभ्यास

मिडिल ऑर्डर बैट्समैन चेतेश्वर पुजारा, रविचंद्रन अश्विन और रविंद्रन जडेजा ने अभ्यास किया जबकि ऋषभ पंत, हनुमा विहारी, शुभमन गिल और कुलदीप यादव ने भी पसीना बहाया.


खिलाड़ियों की ट्रेनिंग के दौरान मुख्य कोच रवि शास्त्री, बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ और क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर भी स्टेडियम में मौजूद रहे.

भारत ने दो दिन यहीं दूधिया रोशनी में अभ्यास करने का फैसला किया है जिससे कि अंधेरा घिरने के समय गुलाबी गेंद से खेलने की चुनौती का अभ्यास किया जा सके.

‘T10 क्रिकेट में सिर्फ खराब एक्शन वाले गेंदबाज और बल्ला भांजने वाले खिलाड़ी अपनी पहचान बना रहे हैं’

पहला टेस्ट मैच तीन दिन में ही खत्म हो गया था इसलिए भारतीय टीम मैनेजमेंट ने इंदौर में ही रूककर अभ्यास करने का फैसला किया. बांग्लादेश की टीम भी यहीं रुकी हुई है और दूधिया रोशनी में अभ्यास कर रही है. दोनों टीमें 19 नवंबर को कोलकाता के लिए रवाना होंगी और ईडन गार्डन्स में दो दिन अभ्यास करेंगी.