न्यूजीलैंड ने अनुभवी रॉस टेलर के नाबाद शतक के दम पर भारत को तीन मैचों की सीरीज के पहले वनडे में 4 विकेट से हरा दिया. न्यूजीलैंड के लिए इस जीत में टेलर के अलावा टॉम लेथम और हेनरी निकोल्स ने भी अहम भूमिका निभाई. हाल में टी-20 सीरीज 0-5 से गंवाने वाली न्यूजीलैंड की वनडे टीम में कुछ नए खिलाड़ी आए हैं जिन्होंने पहले वनडे में बेहतरीन प्रदर्शन किए. इस जीत के बाद टेलर ने कहा कि टी20 टीम की तुलना में उनकी वनडे टीम दबाव से कहीं बेहतर ढंग से निपट सकती है और यही कारण है कि वह भारत के खिलाफ सीरीज के शुरुआती मुकाबले में बड़े लक्ष्य का पीछा कर सकी.Also Read - IPL इतिहास में इन 10 बल्लेबाजों ने लगाए सबसे लंबे छक्के, नंबर-1 पर है CSK का ये खिलाड़ी

हैमिल्टन वनडे गंवाने वाली टीम इंडिया पर लगातार तीसरी बार स्लो ओवर रेट के कारण जुर्माना Also Read - टॉप-10 में Shaheen Afridi, इस पाकिस्तानी बल्लेबाज ने ICC Rankings में लगाई जबरदस्त छलांग

टेलर ने 21वां शतक जड़ा जिससे न्यूजीलैंड ने चार विकेट से जीत हासिल की और तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-0 से बढ़त ले ली. Also Read - Ross Taylor Retirement: अपनी आखिरी इंटरनेशनल पारी में सिर्फ 14 रन बनाकर रॉस टेलर ने ली विदा

’20 में क्लीन स्वीप से हारने के बाद जीत दर्ज करना अच्छा है’

टेलर ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘टी20 में क्लीन स्वीप से हारने के बाद जीत दर्ज करना अच्छा है. निश्चित रूप से नए खिलाड़ी आए और उन पर हार का कोई बोझ नहीं था. मुझे लगता है कि यह चीज उनके दिमाग में जरूर आयी होगी, आखिर आप मनुष्य ही हो और अंत में हमने दो विकेट भी गंवाए.’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन साथ ही हमारा अंतिम मैच विश्व कप फाइनल था और काफी खिलाड़ी उस दबाव भरे हालात में खेले थे. वे टी20 टीम की तुलना में थोड़े ज्यादा अनुभवी हैं. इसलिए यह दिखाई दिया, लेकिन यह अभी एक ही मैच था और इस सीरीज में अभी काफी कुछ होना है. लेकिन सिर से बोझ हटाना अच्छा था.’

भारत ने श्रेयस अय्यर के पहले शतक और लोकेश राहुल की शानदार नाबाद अर्धशतकीय पारी से चार विकेट पर 347 रन का स्कोर खड़ा किया लेकिन टेलर ने टॉम लाथम के साथ मिलकर न्यूजीलैंड को जीत दिलाई.

‘न्यूजीलैंड में इन कुछ मैदानों पर खेलना थोड़ा मुश्किल चीज है’

टेलर ने कहा कि मैदान के आकार ने भी उनकी मदद की लेकिन न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने इस लक्ष्य को सफलतापूर्ण हासिल करने में योगदान दिया.

उन्होंने कहा, ‘न्यूजीलैंड में इन कुछ मैदानों पर खेलना थोड़ा मुश्किल चीज है क्योंकि आपको नहीं पता होता कि किसी भी समय कौन सा स्कोर चुनौतीपूर्ण होगा. एमसीजी हो या फिर यहां, या फिर कहीं और, आप खुद को एक मौका देते हो. साथ ही अगर आप शुरू में दो विकेट गंवा देते हो तो यह लक्ष्य का पीछा करना मुश्किल हो जाता है.’

‘मुझे लगता है कि बल्लेबाजी क्रम में खिलाड़ियों ने अच्छा योगदान दिया’

टेलर ने कहा, ‘मुझे लगता है कि बल्लेबाजी क्रम में खिलाड़ियों ने अच्छा योगदान दिया. हालांकि गेंदबाजी आक्रमण ने अच्छा किया क्योंकि भारत एक समय 360-370 रन तक पहुंचने की ओर बढ़ रहा था. इसलिये हमने उन्हें 350 रन के स्कोर के अंदर रखकर अच्छा किया. टीम को इस स्कोर तक पहुंचने के लिये अच्छी बल्लेबाजी करनी थी और आज हमने ऐसा ही किया.’

हार के बाद कोहली बोले- हमने मौके का फायदा नहीं उठाया, कुछ चीजों में सुधार की जरूरत

उन्होंने कहा, ‘मुझे क्रीज पर काफी मदद मिली. हेनरी निकोल्स और गुप्टिल ने अच्छी शुरूआत की, टॉम लाथम पांचवें खिलाड़ी थे और उस तरह से शुरूआत करना आसान नहीं था. लेकिन बायें-दायें हाथ के संयोजन ने हमारे लिए लक्ष्य का पीछा करना आसान कर दिया. हम जानते थे कि एक तरफ छोटी बाउंड्री थी और हम इसका फायदा उठा सकते थे.’