भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 3 मैचों की सीरीज का तीसरा और अंतिम वनडे मैच 18 मार्च को कोलकाता के ऐतिहासिक इर्डन गार्डंस में खेला जाएगा. धर्मशाला में खेला जाने वाला सीरीज का पहला वनडे गुरुवार को बारिश की भेंट चढ़ गया. दूसरा वनडे 15 को लखनऊ में खेला जाना है. कोरोना वायरस महामारी के कारण इन दोनों मैचों का आयोजन खाली स्टेडियम हो सकता है. खेल मंत्रालय ने परामर्श जारी कर कहा है कि अगर किसी खेल प्रतियोगिता को स्थगित नहीं किया जा सकता है तो फिर भारी संख्या में दर्शकों के बिना इनका आयोजन किया जाना चाहिए. Also Read - कोरोनावायरस पर ट्रंप सरकार की चेतावनी, बढ़ सकता है मरने वालों का आंकड़ा, लॉकडाउन को लेकर किया बड़ा फैसला

भारतीय खेलों पर CoronaVirus की पड़ी मार: इन प्रतियोगिताओं से दर्शकों को रखा जाएगा दूर Also Read - भावुक कनिका कपूर ने अब फैंस को समझाई जिंदगी की अहमियत, बोलीं समय हमें...

बीसीसीआई सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘बीसीसीआई को खेल मंत्रालय का परामर्श मिला है. अगर हमें भीड़ जुटाने से बचने की सलाह दी जाती है तो हमें उसका पालन करना होगा.’ Also Read - कोविड-19: यूपीसीए और केरल क्रिकेट संघ ने 50-50 लाख रुपए का दान देने का ऐलान किया

बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) के अध्यक्ष अविषेक डालमिया ने बताया कि कैब ने टिकटों की बिक्री रोकने का फैसला किया है. कैब अध्यक्ष ने इन हालात पर चर्चा के लिये मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता में सचिवालय में मुलाकात की.

डालमिया ने कोलकाता से कहा, ‘मैंने सचिवालय में मुख्यमंत्री से मुलाकात की. हम सरकारी निर्देश का पालन करेंगे जो आज जारी किया गया है और हम तुरंत प्रभाव से सभी टिकटों की बिक्री रोक रहे हैं.’

क्या इससे निष्कर्ष नहीं निकलता की मैच खाली स्टेडियम में खेले जाएगे तो उन्होंने कहा, ‘मैं कोई भी टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा. फिलहाल स्थिति यही है कि हम अगले निर्देश तक टिकटों की बिक्री रोक देंगे. अब तक स्थिति यही है.’

Coronavirus Effect: साउथ अफ्रीका के खिलाफ अंतिम 2 वनडे खाली स्टेडियम में कराए जा सकते हैं

अगर मैच खाली स्टेडियम में खेले जाते हैं तो खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के अलावा केवल टीवी क्रू, कमेंटेटर ओर पत्रकारों को ही स्टेडियम में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी. भारत में कोरोनावायरस से अब तक 73 लोग संक्रमित हैं. दुनिया भर में एक लाख से अधिक लोग इस वायरस के चपेट में हैं जबकि कुल 4000 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.