नई दिल्ली. विराट कोहली वर्ल्ड क्रिकेट के बेस्ट बल्लेबाज हैं, ये बात क्रिकेट को चलाने वाली संस्था ICC को समझ आ चुकी है, क्रिकेट फैंस को पता चल चुकी है. लेकिन , अंग्रेज हैं कि मानते ही नहीं. जिसके बल्ले की गूंज से इन दिनों क्रिकेट का कोना-कोना गूंज रहा है, उसकी धमक इंग्लैंड क्रिकेट को सुनाई देने का नाम ही नहीं ले रही. और, आपको बता दें कि ऐसा सच में नहीं है. दरअसल, ये गोरों की पुरानी बीमारी रही है कि उन्होंने कभी खुद से बढ़कर भारतीय बल्लेबाजों को माना ही नहीं है. उनके लिए तो जो रूट ही सर्वश्रेष्ठ हैं , फिर चाहे वो विराट कोहली के आस-पास भी न फटके. Also Read - IPL 2020: युवा ओपनर देवदत्त पडीक्कल बोले-डेब्यू की खबर सुनते ही नवर्स हो गया था

Also Read - IPL 2020 SRH vs RCB Highlights: कोहली एंड कंपनी ने पिछले 3 सीजन से चले आ रहे पहले मैच की हार के मिथक को तोड़ा

विराट-अनुष्का के कहने पर DJ Frenzy ने तैयार किया ‘सजना वे सजना’ का रिमिक्स,VIDEO Also Read - IPL 2020: आखिर क्यों विराट कोहली ने ट्विटर पर अपना नाम सिमरनजीत किया, जानिए पूरी डिटेल

विराट को लेकर अंग्रेजों को फटकार!

इंग्लैंड के लॉर्ड्स में महफिल सजी थी, मौका था क्रिकेट और उसकी स्प्रिट को लेकर चर्चा करने का. इसी महफिल में पैनल डिस्कशन का हिस्सा भारतीय क्रिकेट के पूर्व ओपनर और क्रिकेट कमेंटेटर संजय मांजरेकर भी थे. डिस्कशन के दौरान जब इंग्लैंड क्रिकेट ने विराट कोहली की श्रेष्ठता पर सवाल दागे तो संजय मांजरेकर से रहा नहीं गया. और, जब बारी संजय मांजरेकर की बोलने की आई तो मांजरेकर ने कहा कि,” ये बुरा आइडिया नहीं है अगर विराट कोहली को सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज कहा जाए. उन्होंने भारत के महान बल्लेबाजों के बीच अपनी जगह बनाई है. आप बस बनारस के गंदे पानी की बात करोगे लेकिन उसी पानी से हर दौर में महान क्रिकेटर भी जन्म ले रहे हैं. सुनील गावस्कर ने 1987 में क्रिकेट छोड़ा. दो साल बाद सचिन आए. लंबे करियर के बाद तेंदुलकर रिटायर हुए तो विराट आए, जिन्होंने अपना एक अलग मुकाम बनाया. ”

‘स्पेशल है विराट’

अंग्रेजों की क्लास लगाते हुए मांजरेकर यही नहीं थमे. MCC की ओर से आयोजित क्रिकेट लेक्चर में उन्होंने विराट की महानता का बखान करते कहा, ” विराट में आत्मविश्वास है जो उन्हें कामयाब बनाती है और दूसरो से अलग करती है. पिछली बार जब वो यहां थे उनका औसत 13 का था. अगला टेस्ट उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड में खेला. वो वहां इस तरह से बल्लेबाजी करने उतरे जैसा एडिलेड के किंग हों. उनका यही आत्मविश्वास उन्हें स्पेशल बल्लेबाज बनाता है. ”

अभी एक ही शतक जड़ा है इसलिए… 

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के कोच ट्रेवर वेलिस को भी विराट कोहली के बेस्ट होने पर फिलहाल शक है. उन्होंने कहा कि विराट बेस्ट नहीं है बल्कि उस ओर हैं. विराट बेस्ट हैं या उस ओर, ये उन्होंने एजबेस्टन टेस्ट में खेली अपनी एक शतकीय और एक अर्धशतकीय से साबित कर दिया है. यहां तक कि ICC ने भी उन्हें नंबर 1 का हकदार मान लिया है. लेकिन गोरी चमड़ी वालों को शायद ये बात कभी समझ नहीं आएगी.