नई दिल्ली. पंच में पावर हो तो विरोधी कैसा भी हो घूटने टेक ही देता है. लॉर्ड्स टेस्ट में टीम इंडिया टेस्ट की नंबर वन टीम होते हुए भी जिमी एंडरसन के पंच यानी 5 विकेट के कमाल के आगे धराशायी होने से नहीं बच पाई. बारिश की लुकाछुपी के बीच लॉर्ड्स टेस्ट मैच का दूसरा दिन किसी तरह शुरू हुआ. दूसरे दिन सिर्फ 35.2 ओवरों का खेल हो सका जिसमें भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 107 रन पर ही ढेर हो गई. भारतीय टीम को इतने कम रन पर घुटने टिकवाने में एंडरसन के 5 विकेटों की अहम भूमिका रही. Also Read - IPL 2020: विराट कोहली बोले-इतनी लंबी लीग में कभी तो हार का सामना करना ही होगा

एंडरसन का ‘पंच’ Also Read - IPL 2020 Points Table Latest Update After RR vs MI, Match 45: ऑरेंज कैप की रेस में तीसरे नंबर पर पहुंचे विराट कोहली

एंडरसन ने मैच में 20 रन देकर 5 विकेट लिए, जिसमें दोनों ओपनर के अलावा एक बड़ा विकेट रहाणे का भी शामिल रहा. एंडरसन के अलावा मैच में वोक्स को 2 विकेट जबकि ब्रॉड और सैम को 1-1 विकेट मिले.  भारत की तरफ से रविचंद्रन अश्विन ने सबसे ज्यादा 29 रन बनाए, जिसने भारत को 100 रन के पार ले जाने में अहम भूमिका निभाई. वैसे, इंग्लैंड के फील्डर अगर हाथ आए मौकों को लपक लेते तो भारत और पहले ही पवेलियन लौट गया होता. Also Read - IPL 2020 RCB vs CSK: चेन्नई सुपरकिंग्स को मिली 8 विकेट से जीत के 5 कारणों में रुतुराज गायकवाड़ रहे टॉप पर

टॉस ने छिना पहले गेंदबाजी का मौका

इससे पहले दूसरे दिन ही मैच का टॉस हुआ जिसे इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने जीता और भारत को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया. बारिश की वजह से हालात गेंदबाजी के अनुकूल थे और इसका असर भी दिखा. मुरली पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर बिना खाता खोले पवेलियन लौटे. स्विंग लेती एंडरसन की एक खूबसरत गेंद ने मुरली विजय के स्टम्प उड़ा दिए. इसके बाद केएल राहुल (8) भी एंडरसन की स्विंग को समझ नहीं पाए और गेंद उनके बल्ले का बेहद बारीक किनारा लेकर विकेटकीपर जॉनी बेयरस्‍टो के दस्तानों में समा गई. वहीं पुजारा ने अपना विकेट कप्तान कोहली के लिए रन आउट होकर कुर्बान किया.

इंग्लैंड के ‘ड्रॉप’ ने दिए मौके

कुछ देर बाद दोबारा शुरू हुई बारिश काफी देर बाद थमी. हालांकि अब मैदान पर धूप थी और गेंद भी ज्यादा स्विंग नहीं कर रही थी. कोहली और रहाणे आसानी से खेल रहे थे, लेकिन थोड़े समय बाद मौसम ने करवट ली और गेंद फिर हरकतें करने लगी. इसी बीच ब्रॉड की गेंद पर रूट ने रहाणे का कैच छोड़ दिया. 20वें ओवर में दो बार गेंद ने कोहली के बल्ले का बाहरी किनारा लिया, लेकिन स्लिप पर खड़े फील्डर के हाथों तक नहीं पहुंची. 22वें ओवर में एक बार फिर वोक्स की गेंद ने कोहली के बल्ले का किनारा लिया और इस बार जोस बटलर ने उनका कैच छोड़ दिया. भारतीय कप्तान को कई बार जीवनदान मिला लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा पाए और अगली ही गेंद पर बटलर ने कैच छोड़ने की गलती नहीं की. भारतीय कप्तान 57 गेंदों में दो चौकों की मदद से 23 रन बनाकर पवेलियन लौटे

यहां से भारतीय पारी लड़खड़ा गई. वोक्स की ही गेंद पर बटलर ने हार्दिक पंड्या (11) कैच लपका. सैम कुरन की बेहतरीन गेंद दिनेश कार्तिक (1) को 62 के कुल स्कोर पर बोल्ड कर गई. रहाणे विकेट पर थे और उनसे काफी उम्मीदें थीं, लेकिन 84 के कुल स्कोर पर एंडरसन और कुक की जोड़ी ने रहाणे की 44 गेंदों में 18 रनों का पारी का अंत कर दिया जिसमें दो चौके शामिल थे. कुलदीप यादव को एंडरसन ने खाता नहीं खोलने दिया. अश्विन की पारी का अंत ब्रॉड ने 96 के कुल स्कोर पर किया. उन्होंने 38 गेंदों की पारी में चार चौके लगाए. एंडरसन ने ईशांत शर्मा को आउट कर अपने पांच विकेट पूरे किए और भारतीय पारी का दि एण्ड किया.