नई दिल्ली. पहले बर्मिंघम और अब लॉर्ड्स, नतीजा इंग्लैंड के खिलाफ इन दोनों टेस्ट का एक ही रहा. फर्क बस इतना रहा कि लॉर्ड्स में हम बर्मिंघम की तरह लड़ नहीं पाए. बहरहाल, अब जब हारे हैं तो जाहिर है उस हार के साइड इफेक्ट भी दिखेंगे. और, ये दिखने शुरू हो गए हैं. विराट कोहली की कप्तानी में ICC टेस्ट रैंकिंग में टीम इंडिया, जो लंबे अर्से से कुंडली मारे बैठी है, वो अब हार से धीरे-धीरे सरकती नजर आ रही है. हालांकि, ऐसा अभी ICC की ओर से ऑफिशिएली सामने नहीं आया है लेकिन जो प्रेडिक्शन है उसके मुताबिक टीम इंडिया को अब तक 9 अंको का नुकसान हो चुका है.

अब तक 9 प्वाइंट लुढ़के

टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज की शुरुआत नंबर वन के ओहदे के साथ की है. ICC की मौजूदा टेस्ट रैंकिंग में आधिकारिक तौर पर 125 अंकों के साथ अभी भी वो उसी नंबर पर बरकरार है. लेकिन, अगर भारतीय टीम की रैंकिंग को प्रेडिक्ट करें तो बर्मिंघम में हार के बाद उसे 7 अंक और लॉर्ड्स टेस्ट गंवाने के बाद कुल 9 अंक का नुकसान हो चुका है.

टीम इंडिया के खिलाफ बेटा हैट्रिक पर था और पिता आ गए बॉलिंग करने, देखने वाले दंग!

0-2 पर 116 अंक, क्लीन स्वीप पर 112 

यानी, भारत अगर अगले तीनों टेस्ट ड्रॉ भी करा लेता है तो भी इंग्लैंड के 2-0 की जीत के साथ उसकी रेटिंग प्वाइंट घटकर 116 की हो जाएगी. अगर इंग्लैंड टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप कर लेता है तो भारत की रेटिंग प्वाइंट सीधे 13 अंक गिरकर 125 से 112 पर आ जाएगी. हालांकि, इतने के बावजूद भी भारत की टेस्ट बादशाहत बरकरार रहेगी.

लॉर्ड्स की 494 गेंदों का हिसाब, विराट कोहली की कप्तानी में भारत की सबसे शर्मनाक हार

भारत 3-2 से जीता तो 123 प्वाइंट

वहीं 2 टेस्ट जीतकर सीरीज में बढ़त बना चुकी इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया ने अगर कमबैक करते हुए अगले तीनों टेस्ट जीत लिए तो सीरीज खत्म होने के बाद यहां से कम से कम उसके 123 रेटिंग प्वाइंट तो रहेंगी ही. यानी, 2 टेस्ट हारने का खामियाजा उसे बस 2 रेटिंग प्वाइंट गंवाकर चुकाना पड़ेगा.

क्रिकेट और दूसरे खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें