मैनचेस्टर. भारतीय गेंदबाजों ने कसी हुई गेंदबाजी का शानदार नमूना पेश करके न्यूजीलैंड को विश्व कप के पहले सेमीफाइनल में मंगलवार को यहां बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया. बारिश के कारण जब 46.1 ओवर में खेल रोका गया तब कीवी टीम पांच विकेट पर 211 रन बनाकर संघर्ष कर रही थी. केन विलिमयसन (95 गेंदों पर 67) ने हेनरी निकोल्स (51 गेंदों पर 28) के साथ दूसरे विकेट के लिए 68 और रोस टेलर (नाबाद 67) के साथ तीसरे विकेट के लिए 65 रन जोड़े, लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने सही समय पर विकेट निकाले. ताजा समाचार मिलने तक मैच रुका हुआ है. अब इस बात की संभावना ज्यादा बन रही है कि बाकी बचा खेल रिजर्व-डे में खेला जाए.

आईसीसी के नियमों के अनुसार, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल के रिजर्व-डे के दिन खेल वहीं से शुरू होगा, जहां मंगलवार को यह रोका गया था. अगर मंगलवार को खेल नहीं हो पाता है, तो बुधवार को 46.1 ओवर के बाद से मैच खेला जाएगा. हालांकि मैच के अंपायर ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान का लगातार निरीक्षण कर रहे हैं. भारतीय समयानुसार रात 10 बजकर 45 मिनट तक खेल दोबारा शुरू नहीं हो पाया है. अगर अगले 15 मिनट तक और यह खेल रुका रहता है, तो मैच रिजर्व-डे के दिन खेला जाना लगभग तय है.

जानिए अगर न्यूजीलैंड ने दोबारा बैटिंग नहीं की, तो टीम इंडिया के सामने क्या होगा टार्गेट

जसप्रीत बुमराह (25 रन देकर एक) और भुवनेश्वर कुमार (30 रन देकर एक) ने शुरू से ही कसी हुई गेंदबाजी करके न्यूजीलैंड पर दबाव बनाया. बीच के ओवरों में रविंद्र जडेजा (34 रन देकर एक) ने यह भूमिका बखूबी निभायी. हार्दिक पंड्या (55 रन देकर एक) और युजवेंद्र चहल (63 रन देकर एक) अपने आखिरी ओवरों में रनों पर अंकुश नहीं लगा पाए. शुरू में गेंद स्विंग ले रही थी तथा बुमराह और भुवनेश्वर ने बल्लेबाजों पर अच्छी तरह से दबाव बनाया. विराट कोहली टॉस गंवा बैठे और इसके बाद पहले गेंदबाजी करते हुए उन्होंने पहली गेंद पर अपना रेफरल भी गंवा दिया.

मार्टिन गुप्टिल (एक) इसका फायदा नहीं उठा पाए और बुमराह ने चौथे ओवर में उन्हें कोहली के हाथों कैच कराकर स्कोर एक विकेट पर एक रन कर दिया. न्यूजीलैंड पहले पावरप्ले तक 27 रन तक ही पहुंच पाया जो इस विश्व कप में पहले दस ओवरों में किसी भी टीम का न्यूनतम स्कोर है. निकोल्स भले ही 18 ओवर से अधिक समय तक क्रीज पर रहे, लेकिन इस बीच तेज और स्पिन मिश्रित आक्रमण के सामने उन्हें लगातार संघर्ष करना पड़ा. विलियमसन और निकोल्स जब पारी संवार रहे थे तब जडेजा ने ‘विकेट टु विकेट’ गेंद करके बल्लेबाजों को परेशानी में रखा. बायें हाथ के इस स्पिनर ने अंदर आती गेंद पर निकोल्स को चकमा देकर उनका मिडिल स्टंप थर्राया और उन्हें लंबी पारी नहीं खेलने दी.

अगर सेमीफाइनल पूरा न हुआ तो टी-20 में बदल सकता भारत-न्यूजीलैंड का मैच, टीम इंडिया को बनाने होंगे इतने रन

अगर सेमीफाइनल पूरा न हुआ तो टी-20 में बदल सकता भारत-न्यूजीलैंड का मैच, टीम इंडिया को बनाने होंगे इतने रन

पहले 25 ओवरों में स्कोर दो विकेट 83 रन था. इस बीच भारतीय गेंदबाजों ने 150 में से 102 गेंदों पर रन नहीं दिए थे, जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि गेंदबाज कितने हावी थे. इस बीच 14वें ओवर के बाद 28वें ओवर में गेंद ने सीमा रेखा के दर्शन किए. बुमराह 32वें ओवर में दूसरे स्पैल के लिए आए. उन्हें आते ही टेलर (तब 22 रन) का विकेट का मिल जाता, लेकिन विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने कैच छोड़ दिया. बल्लेबाजों पर हालांकि रन बनाने का दबाव था और ऐसे में विलियमसन ने कदमों का इस्तेमाल किए बिना चहल की गेंद बैकवर्ड प्वाइंट पर खेली लेकिन वह बल्ले का बाहरी किनारा लेकर जडेजा के सुरक्षित हाथों में चली गई.

भारत-न्यूजीलैंड सेमीफाइनलः क्रिकेट फैन्स की इन तस्वीरों में देखिए मैच का रोमांच

कीवी कप्तान ने छह चौके लगाए और इस बीच न्यूजीलैंड की तरफ से किसी एक विश्व कप में सर्वाधिक रन (548) बनाने वाले बल्लेबाज बने. उनका स्थान लेने के लिए उतरे जिम्मी नीशाम (12) ने भी हवा में गेंद लहरायी. न्यूजीलैंड की पारी का पहला छक्का 44वें ओवर में टेलर ने चहल की गेंद पर लगाया जिससे उन्होंने अपना 50वां वनडे अर्धशतक भी पूरा किया. भुवनेश्वर ने कोलिन डि ग्रैंडहोम (16) को विकेट के पीछे कैच कराकर कीवी टीम को डेथ ओवरों के शुरू में बड़ा झटका दिया. बारिश के कारण जब खेल रोका गया तब टेलर के साथ टॉम लैथम तीन रन पर खेल रहे थे. टेलर ने अब तक अपनी पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाया है.

(इनपुट – एजेंसी)