INDvsNZ Semi Final Match: इंग्लैंड के मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफर्ड ग्राउंड पर चल रहा विश्व कप के पहले सेमीफाइनल मैच का फैसला आ गया है. न्यूजीलैंड ने सिर्फ 18 रनों से यह रोमांचक मैच जीतकर भारत के विश्व कप के सफर का अंत कर दिया है. मैच के आखिरी ओवरों में रवींद्र जडेजा के 77 और महेंद्र सिंह धोनी के 50 रनों की पारी किसी काम न आई. खासकर 49वें ओवर में धोनी का रन आउट होना इस मैच में भारतीय खेमे की हार की बुनियाद बना. अंत में खेलने आए भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल और जसप्रीत बुमराह भारतीय उम्मीदों को मंजिल तक न पहुंचा सके. की झोली से छीनने वाला बना.

आखिरी के ओवरों में दबाव में आई भारतीय टीम ने लगभग जीत के करीब पहुंचकर यह मैच गंवा दिया है. टीम इंडिया विश्व कप का यह महत्वपूर्ण मैच पूरे 50 ओवर भी न खेल सकी. कुछ गेंद शेष रहते हुए ही भारत के सभी बल्लेबाज आउट हो गए. इससे पहले ओल्ड ट्रेफर्ड ग्राउंड पर खेले जा रहे इस सेमीफाइनल मैच में जडेजा और धोनी की साझेदारी के बाद रोमांच चरम पर पहुंच गया था. भारतीय प्रशंसकों की उम्मीद बंधने लगी थी. लेकिन पहले जडेजा का कैच आउट होना और बाद में धोनी के रन आउट ने भारतीय उम्मीदों को धराशायी कर दिया. शुरुआत से संघर्ष कर रही भारतीय टीम रवींद्र जडेजा के क्रीज पर उतरने के बाद एक बार फिर लय में लौट आई थी. लेकिन अब यह इंतजार 4 साल लंबा हो गया है.

इससे पहले भारत ने आज सेमीफाइनल मैच की शुरुआत बेहद लचर अंदाज में की. लीग मैचों में एक के बाद एक तीन शतक ठोकने वाले रोहित शर्मा महज 1 रन के स्कोर पर आउट हो गए. इसके बाद बैटिंग करने आए सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज विराट कोहली भी टीम के स्कोर में कोई इजाफा नहीं कर सके. विराट कोहली को न्यूजीलैंड के प्रमुख गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने एलबीडब्ल्यू आउट किया. इसके बाद केएल राहुल भी एक रन के स्कोर पर चलते बने. ऐसा पहली बार हुआ कि टीम इंडिया के तीन प्रमुख बल्लेबाज मात्र एक-एक रन बनाकर पवेलियन लौट गए.

लगातार तीन खिलाड़ियों के आउट होने के बाद कुछ देर के लिए ऐसा लगा कि विकेटों का पतझड़ थमा, लेकिन 10वें ओवर की आखिरी गेंद पर दिनेश कार्तिक भी आउट हो गए. इससे टीम इंडिया की पारी एक बार फिर लड़खड़ा गई. कार्तिक के आउट होने के बाद क्रीज पर हार्दिक पांड्या और ऋषभ पंत ने भारत का स्कोर 50 के पार पहुंचाया. ये दोनों खिलाड़ी अभी जमने की कोशिश कर ही रहे थे कि 23वें ओवर में पंत को भी न्यूजीलैंड के स्पिनर सेंटनर ने ग्रैंडहोम के हाथों कैच करा आउट करा दिया. अब पारी को संभालने की जिम्मेदारी पांड्या और धोनी पर आ गई थी. दोनों बल्लेबाज संभलकर खेल भी रहे थे, लेकिन सेंटनर की ही गेंद पर पांड्या ने 31वें ओवर में केन विलियमसन को कैच थमा दिया. इस तरह 100 रनों के भीतर भारत ने अपने 6 विकेट गंवा दिए.