नार्थ साउंड (एंटीगा): भारतीय सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल मानते हैं कि तकनीक को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया जाता है लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि उन्हें रन जुटाने के लिये थोड़ा संयम बरतने की जरूरत है. अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट में अर्धशतक और पिछले साल इंग्लैंड में 149 रन के अलावा राहुल ने 2018 के शुरू के बाद से लंबे प्रारूप में कुछ खास प्रदर्शन नहीं किया है.

 

वेस्टइंडीज के खिलाफ चल रहे मुकाबल में राहुल ने अच्छी शुरूआत के बाद भी विकेट गंवा दिया. उन्होंने तीसरे दिन का खेल समाप्त होने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि तकनीक और बाकी सब कुछ को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया जाता है, जब आप रन जुटाते हो तो सब अच्छा दिखता है. इसलिये मेरे लिये क्रीज पर समय बिताना काफी अहम था. राहुल ने पहली पारी में 44 रन बनाये और वह दूसरी पारी में 38 रन पर आउट हो गये.

उन्होंने कहा कि मैं बहुत निराश हूं लेकिन मैं काफी चीजें सही कर रहा हूं. मुझे सिर्फ थोड़ा धैर्य बरतना होगा. उन्होंने कहा कि मैं जो अच्छी चीजें कर रहा हूं, उन्हें 35 से 45 रन तक ऐसे ही रखना होगा. मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं. मैं दोनों पारियों में सहज था. काफी चीजों के लिये काफी खुश हूं.