India vs West Indies 3rd ODI: भारतीय क्रिकेट टीम में मिडिल ऑर्डर में अपनी जगह पक्की करने की कोशिश कर रहे बल्लेबाज श्रेयस अय्यर का कहना है कि करियर की शुरुआत में वह इतने जिम्मेदार नहीं थे लेकिन अब वह अपने खेल को बखूबी समझते हैं.Also Read - IND vs SA- यह हमारे घर जैसी पिच, उम्मीद नहीं थी कि वे इतनी असानी से हमें हरा देंगे: KL Rahul

MS Dhoni से मिलने को क्यों बेताब है ये इंग्लैड का युवा ऑलराउंडर, जानिए वजह Also Read - IND vs SA: दो खेमों में बंट चुकी है भारतीय टीम, दानिश कानेरिया बोले- विराट खेमा नहीं कर रहा बात

अय्यर ने विंडीज के खिलाफ जारी तीन मैचों की सीरीज के शुरुआती दो वनडे में 2 अर्धशतक जड़ने में सफल रहे. भारत और विंडीज के बीच सीरीज का तीसरा और अंतिम वनडे रविवार को कटक में खेला जाएगा. Also Read - Shikhar Dhawan को टी20 वर्ल्ड कप से बाहर करना सही फैसला नहीं था, ओपनिंग KL Rahul की जगह नहीं: Sanjay Bangar

लंबे समय से भारतीय टीम की समस्या रहे बल्लेबाजी के चौथे नंबर पर अय्यर अपनी दावेदारी पुख्ता करते जा रहे हैं. तीसरे वनडे की पूर्व संध्या पर अय्यर ने कहा, ‘यह परिपक्वता और जिम्मेदारी से आता है. प्रथम श्रेणी करियर के दौर में मैं आक्रामक था और कभी जिम्मेदारी नहीं लेता था.’

कुमार मंगलम के बेटे आर्यमन बिड़ला अनिश्चितकाल के लिए क्रिकेट से हुए दूर, ये है वजह

भारत और वेस्टइंडीज के बीच अभी सीरीज 1-1 की बराबरी पर है. इससे पहले टी-20 सीरीज भारत ने 2-1 से जीती थी.

बकौल अय्यर,‘बाद में मुझे लगा कि उच्चतम स्तर पर खेलने के बाद परिपक्वता जरूरी है. मैं स्ट्रोक्स भी लगा सकता हूं और एक रन भी ले सकता हूं. मैं अपने खेल को बखूबी समझता हूं और उसके अनुसार खेलता हूं.’

अय्यर जिस तरह से चौथे नंबर पर प्रदर्शन कर रहे हैं उससे टीम इंडिया की समस्या हल होती दिख रही है. हालांकि खुद को साबित करने के लिए श्रेयस को लगातार मौके देने होंगे.