पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और चीफ सेलेक्टर इंजमाम उल हक ने भारतीय बल्लेबाजों पर खुद के लिए खेलने का आरोप लगाया है. इंजमाम का कहना है कि जब वो खेलते थे उस समय भारतीय बल्लेबाज टीम में अपनी जगह को पक्की करने के लिए खेलते थे जबकि पाकिस्तानी खिलाड़ी व्यक्तिगत रिकॉर्ड की बजाए टीम के लिए खेलते थे. अपनी टीम के लिए कई बार संकटमोचक की भुमिका निभा चुके इंजमाम ने कहा कि उस समय पाक खिलाड़ी अपने कप्तान का पूरा सपोर्ट करते थे खासकर इमरान खान को. Also Read - दो कोरोना टेस्ट नेगेटिव आने के बाद पाक टीम से जुड़ेंगे हसन अली, फिटनेस पर निर्भर करेगी शार्जील खान की मौजूदगी 

7 साल पहले क्रिस गेल के बल्ले ने बरपाया था कहर, आज भी कायम है ये ‘महा-रिकॉर्ड’ Also Read - Pakistan vs Zimbabawe 2nd ODI: पाकिस्तान ने जिम्बाब्वे को 6 विकेट से हरा सीरीज पर किया कब्जा

इंजमाम ने ये सारी बातें रमीज राजा के यूट्यूब चैनल पर कहा है. बकौल इंजमाम, ‘जब हम भारत के खिलाफ खेलते थे तो कागजों पर उनकी बल्लेबाजी हमसे मजबूत थी. हमारे बल्लेबाज 30 या 40 रन भी बनाते थे तो वह टीम के लिए होते थे. लेकिन भारत के खिलाड़ी शतक भी बनाते थे तो अपने लिए ही बनाते थे. यह दोनों टीमों के बीच फर्क था.’ Also Read - इस पाकिस्तानी विकेटकीपर के कायल हुए किरण मोरे, 'ऑलराउंड पैकज' बताया

इंजमाम ने 1992 विश्व कप विजेता कप्तान और पाकिस्तान के मौजूदा प्रधानमंत्री इमरान खान की कप्तानी में पदार्पण किया था. उन्होंने कहा कि खराब फॉर्म में चल रहे खिलाड़ियों का भी जिस तरह से वह बचाव करते थे, उनकी सभी बहुत इज्जत करते थे.

इस इंग्लिश ऑलराउंडर ने प्रेग्नेंट पत्नी के लिए किया ये काम अब हो रहा पछतावा

उन्होंने कहा, ‘इमरान भाई बहुत तकनीकों में नहीं पड़ते थे लेकिन उन्हें पता था कि टीम से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कैसे कराना है. उन्होंने हमेशा अपने खिलाड़ियों का साथ दिया और इसी वजह से महान कप्तान बने.’

इंजमाम ने पाकिस्तान की ओर से 120 टेस्ट, 378 वनडे और एक टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं