भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) ने टोक्यो ओलंपिक-2020 के एक साल तक के लिए स्थगित होने का स्वागत किया है और कहा कि लॉकडाउन खत्म के बाद वो खिलाड़ियों, राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएफएस) और अन्य शेयरधारकों के साथ एक बैठक करेगा। Also Read - Covid-19: यूपी सरकार का बड़ा कदम, 4.81 लाख श्रमिकों के भरण-पोषण के लिए जारी किये एक-एक हजार रुपये

आईओए ने एक बयान में कहा, “आईओए आईओसी के फैसले का स्वागत करता है। इस निर्णय पर पहुंचने से पहले आईओसी ने आयोजनकर्ताओं और सभी शेयरधारकों के साथ चर्चा की थी। जल्द ही लॉकडाउन खत्म होने के बाद आईओए अपने खिलाड़ियों, खेल महासंघों और अन्य शेयरधारकों के साथ एक बैठक करेगा और फिर अपनी योजनाओं पर फिर से विचार करेगा। आज के फैसले से, हमारे वे एथलीट राहत की सांस लेंगे, जो डर और चिंताओं के बीच अपनी तैयारियों में जुटे हुए थे।” Also Read - लॉकडाउन के बीच 'नागिन 4' की इस एक्ट्रेस ने मचाया तहलका, खामोशी से आखिर किससे कर रही हैं बातें

टोक्यो ओलंपिक-2020 को एक साल तक के लिए टालने का फैसला किया गया। दूसरे विश्व युद्ध के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि ओलंपिक खेलों को स्थगित किया गया हो। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के साथ खेलों के महाकुंभ को 2021 तक के लिए टालने को तैयार हो गए। Also Read - यूपी: घर का दरवाज़ा खोलते ही मिले 500 के नोटों से हड़कंप, कोरोना के डर से बुलाई पुलिस, डॉक्टर्स की निगरानी में रुपए

आईओसी और टोक्यो ओलंपिक-2020 की आयोजन समिति ने बाद में एक संयुक्त बयान में कहा कि आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक और आबे खेलों को 2020 के बाद, 2021 ग्रीष्मकाल में पुर्ननिर्धारित करने को तैयार हो गए हैं।

संयुक्त बयान में कहा गया है, “मौजूदा स्थिति में और डब्ल्यूएचओ द्वारा मंगलवार को दी गई जानकारी के आधार पर, आईओसी अध्यक्ष और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे इस नतीजे पर पहुंचे कि टोक्यो ओलंपिक को 2020 के बाद पुर्ननिर्धारित किया जाए लेकिन 2021 ग्रीष्मकाल के बाद नहीं। ताकि खिलाड़ियों और ओलंपिक खेलों से जुड़े सभी लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा की जा सके।”