रियो डि जिनेरियो। ब्राजीली अधिकारियों ने कहा है कि देश के ओलंपिक प्रमुख ने अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति को रिश्वत देकर रियो ओलंपिक की मेजबानी हासिल करने की साजिश रची थी. Also Read - Fuel demand: Pre COVID के स्तर पर पहुंची ईंधन की मांग, पटरी पर लौटने लगी अर्थव्यवस्था

ब्राजील पुलिस ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि वे अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार की जांच कर रहे हैं जो 2016 ओलंपिक की मेजबानी रियो को देने के लिए वोट खरीदने के मकसद से की गई थी. Also Read - पीएम मोदी ने बिहार को दी 900 करोड़ रुपये से अधिक की सौगात, बोले- सीएम नीतीश रघुवंश बाबू के सपनों को पूरा करें

उन्होंने कहा कि कई देशों में नौ महीने तक की गई जांच में पता चला है कि कुछ धांधली हुई है. पुलिस ने कहा कि ब्राजील ओलंपिक के प्रमुख कार्लोस नुजमैन को पूछताछ के लिए बुलाया गया और उनके घर की तलाशी ली गई. अभियोजकों ने बताया कि नुजमैन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया हालांकि उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई लेकिन उनका पासपोर्ट जब्त कर लिया गया. Also Read - पीएम मोदी आज बिहार में तीन पेट्रोलियम परियोजनाओं को राष्ट्र को करेंगे समर्पित, इन राज्यों में रोजगार के बढ़ेंगे अवसर

इसके अलावा व्यवसायी आर्थर सोरेस की गिरफ्तारी के लिये वारंट जारी किया गया जिसे रियो सरकार ने ओलंपिक से पहले मोटी रकम वाले ठेके दिए थे. उनकी पूर्व सहयोगी एलियेने परेरा कावालकेंटे को भी रियो में गिरफ्तार किया गया.

उधर स्विटजरलैंड के लुसाने में आईओसी के एक प्रवक्ता ने हैरानी जताते हुए कहा, ‘आईओसी को मीडिया से इसके बारे में पता चला है और हम पूरी जानकारी हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘आईओसी को इस मामले में स्पष्टीकरण हासिल करना ही होगा.’