कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के कारण इस वर्ष जुलाई-अगस्त में आयोजित होने वाले टोक्यो ओलंपिक 2020 के रद्द होने की चौतरफा मांग उठने लगी है. कोरोनावायरस ने इस समय पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है. इस वायरस से अब तक विश्व में कुल 13 हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि तीन लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं. भारत में इस संक्रमण से अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है. Also Read - COVID Vaccine: भारत में Sputnik को मिल सकती है 10 दिन में मंजूरी, वैक्‍सीनेशन का आंकड़ा 10 करोड़ हुआ

अमेरिका के प्रभावशाली ट्रैक एवं फील्ड महासंघ ने भी ओलंपिक खेलों को स्थगित करने का आग्रह किया है जिससे अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) पर टोक्यो 2020 को टालने का दबाव बढ़ गया है. अमेरिका का ट्रैक एवं फील्ड महासंघ (यूएसएटीएफ) उन प्रभावशाली खेल महासंघों में शामिल हो गया है जिसने खेलों को स्थगित करने के लिए कहा है. Also Read - Lockdown in MP: मध्‍य प्रदेश में लॉकडाउन की फोटोज, आंकड़े दे रहे बड़ी चेतावनी

अमेरिकी ओलंपिक और पैरालंपिक समिति को ओलंपिक खेलों को स्थगित करने की वकालत करनी चाहिए.महासंघ के अध्यक्ष मैक्स सीगल ने अपने पत्र में ‘सम्मानपूर्वक आग्रह’ किया है कि अमेरिकी ओलंपिक और पैरालंपिक समिति (यूएसओपीसी) को टोक्यो ओलंपिक खेलों को स्थगित करने की वकालत करनी चाहिए. Also Read - COVID-19 in Gujarat: सोमनाथ मंदिर में दर्शन आज से बंद, गुजरात कल आए थे 5,011 नए

कोविड-19 से हुई Real Madrid के पूर्व अध्यक्ष लोरेंजो सैंज की मौत, सकते में फुटबॉल जगत

यूएसओपीसी ने कहा था कि ओलंपिक को स्थगित करने का फैसला अभी जल्दबाजी होगा. आईओसी के प्रमुख थॉमस बाक भी पहले इसी तरह का बयान दे चुके हैं.

सीगल ने अपने पत्र में लिखा, ‘हर किसी के स्वास्थ्य और सुरक्षा को प्राथमिकता देना सही और जिम्मेदारी भरा कदम होगा. इस मुश्किल परिस्थिति से पड़ने वाले प्रभाव को पहचानना जो हमारे खिलाड़ियों और ओलंपिक की उनकी तैयारियों पर पड़ रहा है.’

यूएसएटीएफ से एक दिन पहले अमेरिका के तैराकी महासंघ यूएसओपीसी से ओलंपिक खेलों को 2021 तक टालने का समर्थन करने के लिये कहा था.

कोरानावायरस से पूरी दुनिया है त्रस्‍त लेकिन दीपक चाहर ने उठाया फायदा, बताई ये वजह

फ्रांस के तैराकी महासंघ ने भी उसकी हां में हां मिलाते हुए कहा है कि वर्तमान परिस्थितियों में खेलों का सही तरह से आयोजन नहीं किया जा सकता है. स्पेन के एथलेटिक्स महासंघ ने इसके बाद खेलों को टालने के लिए अपनी आवाज उठाई.

उसने प्रेस विज्ञप्ति में कहा, ‘रॉयल स्पेनिश एथलेटिक्स महासंघ (आरएफईए) के बोर्ड निदेशक स्पेन के अधिकतर खिलाड़ियों की तरफ से टोक्यो ओलंपिक खेलों को स्थगित करने की वकालत करता है.’

नॉर्वे ओलंपिक समिति ने आईओसी को भेजा पत्र 

नॉर्वे ओलंपिक समिति (एनओसी) ने कहा कि उसने शुक्रवार को आईओसी को एक पत्र भेजा है. एनओसी ने कहा, ‘हमारी स्पष्ट सिफारिशें हैं कि जब तक विश्व स्तर पर कोविड-19 की स्थिति पर नियंत्रण नहीं पाया जाता है तब तक तोक्यो ओलंपिक खेलों का आयोजन नहीं होना चाहिए.’

ब्रिटेन के एथलेटिक्स महासंघ के नये प्रमुख ने भी कोविड-19 के बारे अनिश्चितता के माहौल में ओलंपिक के आयोजन को लेकर सवाल उठाये हैं. कोविड-19 के कारण विश्व भर में अभी 12,700 लोगों की मौत हो चुकी है.

आईओसी ने सदस्य देशों से खिलाड़ियों की तैयारियों पर कोरोना वायरस के प्रभाव के बारे में पूछा

इस बीच आईओसी ने अपने सदस्य देशों से खिलाड़ियों की तैयारियों पर कोरोना वायरस के प्रभाव के बारे में पूछा है.

आईओसी ने एक प्रश्नावली तैयार की है जिसका शीर्षक ‘कोविड-19 और तोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के लिए तैयारियां’ है. इसमें अपने सदस्य देशों की ओलंपिक समितियों से पूछा है कि, ‘कोविड-19 से संबंधित आपात दिशानिर्देश आपके खिलाड़ियों के प्रशिक्षण और तैयारियों को कैसे सीमित करते हैं.’

आईसीसी ने अपनी प्रश्नावली में अभ्यास शिविरों को बदलने या उन्हें स्थानान्तिरत करने की संभावना के बारे में पूछा है लेकिन उसने यह नहीं बताया कि इस बारे में मिलने वाले जवाबों का वह क्या करेगी. टोक्यो ओलंपिक का आयोजन 24 जुलाई से 9 अगस्त के बीच होना है. कोविड-19 के कारण देश-दुनिया में लगभग सभी खेल प्रतियोगिताएं या तो स्थगित कर दी गई हैं या उन्हें रद्द कर दिया गया है.