सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ शनिवार को पुणे सुपरजाएंट के महेंद्र सिंह धोनी ने धमाकेदार पारी खेलते हुए पुणे को रोमांचक जीत दिलाई। धोनी ने इस सीजन में अपनी पहली हाफ सेंचुरी महज 29 गेंदों पर बना दी और 34 गेंदों पर 61 रन ठोकते हुए उन्होंने दिखा दिया कि उन्हें फिनिश करार देने वाले लोग कितने गलत हैं और अब भी वही दुनिया के बेस्ट फिनिशर हैं।

हैदराबाद के खिलाफ एक समय पुणे की टीम को जीत के लिए अंतिम 18 गेंदों पर 47 रन की जरूरत थी और उसकी हार तय मानी जा रही थी लेकिन धोनी ने अंतिम 13 गेंदों पर 36 रन ठोकते हुए जीत हैदराबाद से छीन ली।

उन्होंने सिराज द्वारा फेंके 18वें ओवर में दो चौकों और एक छक्के की मदद से 17 रन और भुवनेश्वर कुमार द्वारा फेंके 19वें ओवर में दो चौकों और एक छक्के की मदद से 19 दिलाए। आखिरी गेंद पर भी जब जीत के लिए 2 रन चाहिए था और सबकी नजरें धोनी पर थी तो उन्होंने चौका जड़ते हुए पुणे को जीत दिला दी। (IPL 2017: धोनी की आतिशी पारी ने छीनी हैदराबाद से जीत, आखिरी गेंद पर चौका जड़कर पुणे को 6 विकेट से जिताया)

धोनी ने हैदराबाद के खिलाफ धमाकेदार पारी खेलते हुए आलोचकों को करारा जवाब दिया (bcci)

धोनी ने हैदराबाद के खिलाफ धमाकेदार पारी खेलते हुए आलोचकों को करारा जवाब दिया (bcci)

 

इस आईपीएल में अब तक धोनी का बल्ला कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाया था जिसकी वजह से वह अपनी ही टीम पुणे के मालिक के परिवार वालों और टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के निशाने पर रहे थे। पुणे के मालिक संजीव गोयनका के भाई हर्ष ने धोनी की स्ट्राइक रेट पर सवाल उठाए तो गांगुली ने तो यहां तक कह दिया कि धोनी अब टी20 के अच्छे खिलाड़ी नहीं रह गए हैं।

लेकिन हैदराबाद के खिलाफ अपनी बल्लेबाजी से धोनी ने 179.41 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते हुए अपने आलोचकों को दिखा दिया कि वह बड़े मैचों के खिलाड़ी हैं और उन्हें खत्म लेने वाले लोग कितने गलते हैं!