राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी 21 मई को मुंबई के खिलाफ आईपीएल फाइनल में उतरते ही एक नया इतिहास रच देंगे. धोनी का ये सातवां आईपीएल फाइनल होगा और ऐसा करने वाले वह पहले खिलाड़ी बन जाएंगे.

ये आईपीएल का दसवां फाइनल होगा और धोनी सातवीं बार आईपीएल फाइनल खेलेंगे. इससे पहले धोनी छह बार चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए 2008, 2010, 2011, 2012, 2013 और 2015 में फाइनल खेले थे.

इनमें से धोनी की कप्तानी में चेन्नई ने 2010 और 2011 में क्रमशः मुंबई और बैंगलोर को हराकर खिताब जीता था, जबकि 2008, 2012, 2013 और 2015 में फाइनल में पहुंचने के बावजूद चेन्नई की टीम खिताब नहीं जीत पाई.

इस आईपीएल फाइनल में ऐसा पहली बार होगा जब धोनी एक कप्तान के तौर पर फाइनल नहीं खेलेंगे. इससे पहले धोनी आईपीएल के जो छह फाइनल खेले हैं उनमें वह चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान के तौर पर फाइनल खेले थे.

धोनी ने इस सीजन में पुणे के लिए 15 मैचों में 118.14 के स्ट्राइक रेट से 280 रन बनाए हैं, जिनमें एक अर्धशतक शामिल है और उनका उचच्तम स्कोर 61* रन रहा है. (IPL 2017: अब तक हुए आईपीएल फाइनल से जुड़ी 5 रोचक बातें, जानिए)