आईपीएल के फाइनल में रविवार को राइजिंग पुणे सुपरजाएंट और मुंबई इंडियंस के बीच खिताबी मुकाबला होगा. मुंबई की टीम को तो खिताब जीतने का प्रबल दावेदार माना जा रहा था और उसने लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए फाइनल तक का सफर तय किया. लेकिन पुणे का फाइनल तक का सफर उतना आसान नहीं रहा और उसने खराब शुरुआत करते हुए फाइनल में जगह बनाई.

इस सीजन के लिए पुणे ने धोनी की जगह स्टीव स्मिथ को अपना कप्तान बनाया. सीजन की शुरुआत में पुणे के मालिक के भाई हर्ष गोयनका ने स्मिथ और धोनी की तुलना करते हुए स्मिथ को बेहतर कप्तान करार दिया. हालांकि स्मिथ ने हमेशा धोनी की सलाह ली और ये भी कहा कि धोनी जैसे क्रिकेटर के होने से टीम को मजबूती मिलती है.

धोनी ने तमाम आलोचनाओं को पीछे छोड़ते हुए पहले क्वॉलिफायर में महज 26 गेंदों पर 5 जोरदार छक्कों की मदद से 40 रन की तूफानी पारी खेलते हुए पुणे को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई. धोनी की इस शानदार पारी का असर अब पुणे टीम मैनेजमेंट पर दिखने लगा है और उसने फाइनल से पहले पुणे को टीम धोनी कह दिया है. (IPL 2017: स्मिथ नहीं, फाइनल में होगा रोहित शर्मा और धोनी का मुकाबला, जानिए वजह)

पुणे सुपरजाएंट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया है, ‘भूल जाइए आप किस टीम को सपोर्ट करते हैं? इसे एमएस धोनी कहते हैं!

यानी फाइनल से पहले पुणे की टीम पूरी तरह से धोनी के रंग में रंग चुकी है. धोनी मुंबई के खिलाफ अपना सातवां आईपीएल फाइनल खेलकर सबसे ज्यादा आईपीएल फाइनल खेलने वाले खिलाड़ी बन जाएंगे. (IPL 2017: आईपीएल फाइनल में उतरते ही धोनी के नाम दर्ज हो जाएगा ये खास रिकॉर्ड)