सुनील नारायण का नाम आपने अब तक गेंदबाजी में कमाल करते हुए सुना होगा। लेकिन गुरुवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मैच में जीत के लिए मिले 171 रन के टारगेट के जवाब में कोलकाता ने सुनील नारायण को ओपनिंग के लिए उतारकर सबको चौंका दिया।

सुनील नारायण और कप्तान गौतम गंभीर जब कोलकाता की पारी की शुरुआत के लिए उतरे तो सब हैरान रह गए। नारायण ने हालांकि अपनी टीम के इस फैसलो को गलत साबित नहीं होने दिया और महज 18 गेंदों पर 37 रन ठोक डाले। उन्होंने अपनी आतिशी पारी में 4 चौके और 3 छक्के जड़े। नारायण ने पहले विकेट के लिए गंभीर के साथ महज 5.4 ओवर में 76 रन की तूफानी साझेदारी की।

गौतम गंभीर ने  सुनील नारायण के साथ मिलकर कोलकाता को तूफानी शुरुआत दिलाई (bcci)

गौतम गंभीर ने सुनील नारायण के साथ मिलकर कोलकाता को तूफानी शुरुआत दिलाई (bcci)

 

इस तूफानी साझेदारी की बदौलत कोलकाता ने आईपीएल इतिहास में अपना सबसे बड़ा और संयुक्त रूप से दसवां सबसे बड़ा पावरप्ले स्कोर बनाया। कोलकाता ने पावरप्ले के 6 ओवर में 1 विकेट पर 76 रन का स्कोर बनाते हुए इस रिकॉर्ड को अपने नाम किया। आईपीएल में पावरप्ले में सबसे बड़े स्कोर का रिकॉर्ड चेन्नई सुपरकिंग्स के नाम दर्ज जोकि उसने 2014 में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 6 ओवर में 2 विकेट पर 100 रन बनाते हुए बनाया था।

उन्होंने आउट होने से पहले वरुण एरॉन जैसे गेंदबाज के खिलाफ लगातार दो छक्के और 1 चौका जड़ते हुए तीन गेंदों पर 16 रन ठोके और चौथी गेंद पर एक और बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में बाउंड्री लाइन पर अक्षर पटेल के हाथों कैच आउट हुए। 37 रन की पारी के साथ सुनील नारायण ने टी20 क्रिकेट में अपना सबसे बड़ा स्कोर बनाया और अब तक खेले अपने 218 टी20 मैचों में उनका उच्चतम स्कोर 34 रन था।

दूसरे छोर से गंभीर ने भी आक्रामक खेल दिखाया और महज 16 गेंदों पर 31 रन ठोकते हुए कोलकाता को धुआंधार शुरुआत दिलाई।