आईपीएल 2017 के पहले क्वॉलिफायर में पुणे के जिस 17 वर्षीय गेंदबाज ने मुंबई की बल्लेबाजी की जड़ें हिलाई उसका नाम है वॉशिंगटन सुंदर. 163 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई के सुंदर ने मैच तो तभी खत्म कर दिया था जब उन्होंने अपने 3 ओवर के स्पैल में 12 रन देकर 3 विकेट झटके लिए थे.

वॉशिंगटन सुंदर को इस आईपीएल में स्टार ऑफ स्पिनर आर अश्विन के चोटिल होने की वजह से उन्हें पुणे सुपरजाएंट की टीम में शामिल किया गया था. लेकिन सुंदर ने अपने प्रदर्शन से सबको प्रभावित किया और पुणे के गेंदबाजी स्टार बनकर उभरे.

कैसे मिला सुंदर को वॉशिंगटन नाम?
तमिलनाडु से आने वाले इस 17 वर्षीय ऑफ ब्रेक गेंदबाज का नाम सबको आकर्षित करता है. लेकिन शायद आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि सुंदर का वॉशिंगटन नाम अमेरिका की राजधानी वॉशिंगटन डीसी या पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंटन की वजह से नहीं मिला था.

दरअसल उनका ये नाम उनके पिता ने अपने गुरु और मेंटर मिस्टर वॉशिंगटन के नाम पर रखा. मिस्टर वॉशिंगटन क्रिकेट के दीवाने सुंदर के पिता के लिए न सिर्फ स्कूल की फीस का इंतजाम करते थे बल्कि उनके लिए बैट और बॉल भी लाते थे.

हालांकि सुंदर के पिता कभी प्रथम श्रेणी क्रिकेट नहीं खेल पाए और तमिलनाडु की रणजी टीम के संभावितों तक ही पहुंच पाए. लेकिन वॉशिंगटन सुंदर ने महज 17 साल की उम्र में ही भारत के लिए अंडर-19 क्रिकेट और पांच प्रथम श्रेणी मैच भी खेल चुके हैं. उनके दमदार प्रदर्शन की वजह से उन्हें टीम इंडिया का अगला गेंदबाजी स्टार माना जा रहा है.