चेन्नई। आईपीएल के मंगलवार को यहां हुए मैच के दौरान मैदान पर जूता फेंकने के मामले में 11 तमिल समर्थकों को गिरफ्तार किया गया है. कई तमिल समर्थक गुटों ने मंगलवार को आईपीएल के आयोजन के खिलाफ प्रदर्शन किया था. उनका मानना है कि इसका आयोजन यहां कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन से ध्यान हटाने के लिए किया गया है. Also Read - जिस सशक्त भारत की कल्पना नेताजी ने की थी आज देश उसी नक्शे कदम पर चल रहा है: पीएम मोदी

Also Read - PM Modi in Kolkata: कोलकाता में बोले पीएम मोदी- वैक्सीन से दुनिया के देशों की मदद कर रहा है भारत, ये देख बड़ा गर्व करते नेताजी बोस

पुलिस ने साथ ही कहा कि कावेरी मुद्दे पर नारे लगाने के मामले में भी 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. एमए चिदंबरम स्टेडियम में मंगलवार रात चेन्नई और कोलकाता के बीच मैच के दौरान मैदान पर जूता फेंका गया था. इस दौरान चेन्नई की टीम फील्डिंग कर रही थी. जूता रविंद्र जडेजा के पास जाकर गिरा था. इस घटना ने खिलाड़ियों की सुरक्षा पर सवाल खडे़ कर दिए थे. Also Read - कोलकाता में 'पराक्रम दिवस' समारोह को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, असम में जमीन के पट्टों का होगा वितरण

मैच के बीच जडेजा-डु प्लेसिस पर फेंका गया जूता, पुलिस ने किया अरेस्ट

मैच के बीच जडेजा-डु प्लेसिस पर फेंका गया जूता, पुलिस ने किया अरेस्ट

पुलिस की विज्ञप्ति के अनुसार, यह घटना सार्वजनिक शांति प्रभावित करने से जुड़ी है. गिरफ्तार लोगों को आज अदालत में पेश किया गया और उन्हें पुलिस रिमांड में रखा गया है. प्रदर्शनकारी कावेरी जल विवाद को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. राजनीतिक दलों ने पहले ही ऐलान कर दिया था कि आईपीएल मैचों का विरोध किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद प्रदर्शनकारी कावेरी जल बोर्ड का गठन करने की मांग कर रहे हैं.

चेन्नई में नहीं होंगे IPL मैच, बदलेगा वेन्यू, ये शहर है दौड़ में सबसे आगे

चेन्नई में नहीं होंगे मैच

इसी घटना के मद्देनजर बुधवार को फैसला लिया गया कि आईपीएल के मैच चेन्नई में नहीं होंगे. यहां चेन्नई टीम के 6 और मैच होने थे. इन मैचों को पुणे, विसाखापटनम या किसी दूसरे शहर में आयोजित कराया जाएगा.

आईपीएल कमिश्नर राजीव शुक्ला ने आज बताया कि पुलिस ने साफ कर दिया है कि आईपीएल मैचों के लिए सुरक्षा देना संभव नहीं है, इसके बाद ही मैच नहीं कराने का फैसला लिया गया.